Top
Begin typing your search...

गुजरात के दिलीप कुमार निनामा दिल्ली में 'तिलका मांझी राष्ट्रीय पुरस्कार' से सम्मानित

दिलीप कुमार खिमजीभाई निनामा नरोदा, अहमदाबाद में नवयुग विद्यालय में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं।

गुजरात के दिलीप कुमार निनामा दिल्ली में तिलका मांझी राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

9 नवंबर 2021 को गांधी पीस फाउंडेशन, नई दिल्ली में दिलीप कुमार निनामा को "तिलका मांझी राष्ट्रीय पुरस्कार 2021" के लिए सम्मानित किया गया। इस पुरस्कार के लिए देश-विदेश के गणमान्य व्यक्तियों को स्पेशल कवरेज न्यूज़ की नौवीं वर्षगांठ पर अंग मदद फाउंडेशन द्वारा गुजरात के दिलीप कुमार निनामा को सम्मानित किया गया, इसलिए पूरे गुजरात में खुशी की लहर फैल गई।

तिलका मांझी (जबरा पहाड़िया) भारत के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म 11 फरवरी 190 को हुआ था। 190-2 में तिलका मांझी ने अंग्रेजों के अत्याचारों के विरुद्ध युद्ध की शुरुआत की थी। इस प्रकार मंगल पांडे के जन्म से 30 साल पहले तिलका मांजी ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, इसलिए 19वीं सदी के पहले स्वतंत्रता सेनानी के मंगल पांडे नहीं बल्कि 1905 में पैदा हुए तिलका मांजी थे। ऐसे महान स्वतंत्रता सेनानी के नाम पर ऐसा पुरस्कार मिलना गर्व की बात है।

दिलीप कुमार खिमजीभाई निनामा नरोदा, अहमदाबाद में नवयुग विद्यालय में शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं। वे वेजपुर गांव भिलोदा तालुका अरावली जिले के मूल निवासी हैं. वे भारतीय जनजातीय अधिकार आयोग, गुजरात के अध्यक्ष हैं अरावली साबरकांठा आदिवासी शिक्षक संघ के अध्यक्ष हैं। गुजरात के अलावा, वे महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उड़ीसा और झारखंड को कवर करते हैं। नौकरी के साथ-साथ वे पिछले 3 साल से सामाजिक और शैक्षणिक कार्य भी कर रहे हैं। अकादमिक रूप से उनका अपना विषय अंग्रेजी एसएससी परिणाम पिछले 3 वर्षों से 70% से ऊपर रहा है *

श्री दिलीप कुमार निनामा ने अपने भाषण में कहा कि "तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2021" भारत के आदिवासी समुदाय को समर्पित है। यह सम्मान मेरा नहीं बल्कि देश के आदिवासी समुदाय का सम्मान है और आदिवासी समुदाय से होने का गौरव व्यक्त किया।

स्पेशल कवरेज न्यूज के संपादक व वरिष्ठ पत्रकार श्री शिव कुमार मिश्रा ने सभी उपस्थित महानुभावों का स्वागत किया और आश्वस्त किया कि वे देश के अनाम शहीदों के बलिदान को स्मरणीय बनाने हेतु प्रयासरत रहेंगे। समारोह में वरिष्ठ पत्रकार, गांधीवादी प्रसून लतांत ने सभी आगंतुकों का स्वागत किया और अमर शहीद तिलका मांझी के बलिदान पर प्रकाश डाला।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ सहायक संपादक अरुण मिश्रा ने सभी सम्मानित अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया।


विभिन्न विधाओ, देश-विदेश मे, नि:स्वार्थ भाव, लम्बे समय से उत्कृष्ठ कार्य कर रहे, प्रतिष्ठित लोगों मे, स्टाकहोम स्वीडन मे, भारतीय मूल की मानवाधिकार अधिवक्ता पारुल शर्मा, पूर्णिया (बिहार) के जिलाधिकारी (आईएएस) राहुल कुमार (पुस्तकालय अभियान), एसडीएम बिजनोर (उप्र) मांगेराम चौहान (पर्यावरण), छत्तीसगढ़ बस्तर के कृषक डाॅ राजाराम त्रिपाठी (कृषि एव साहित्य), वरिष्ठ पत्रकार बलवंत तक्षक (पत्रकारिता), शर्मिष्ठा सोलंकी (समाज सेवा), डाॅ अरविंद सिंह (चिकित्सा), दिलीप कुमार निनामा (आदिवासी कल्याण), डाॅ त्रिपुरारि कुमार (शिक्षा और युवा जागृति), आलोक कुमार पाठक (पर्यावरण), मिनी जैन (महिला उद्यम), पांचाली देव वर्मा (कला), तरुण कांति बोस (पत्रकारिता), भूमिका द्विवेदी (साहित्य), ज्ञानेन्द्र रावत (पर्यावरण), हरिओम जिंदल (बाल शिक्षण), कुसुम भट्ट (साहित्य व समाज सेवा), मनीष गुप्ता (विधि एव समाज सेवा), संजीव यादव (शिक्षा और पुस्तकालय), डाॅ संजय चौहान (शिक्षा), कांक्षी अग्रवाल (महिला सशक्तिकरण), शंकर कुमार कर्ण (योग), विजय चंद्र झा (मानवीय विकास), वीना कुमारी (महिला उद्धार), मंजीत सिंह किनवार (अंगिका विकास), अपूर्वा त्रिपाठी आदिवासी विकास तथा उत्तराखंडी कला और संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन के क्षेत्र मे, विगत पांच दशको से क्रमश: कार्य कर रहे रानीखेत (अल्मोड़ा) के मूल निवासी, वर्तमान, दिल्ली मे प्रवासरत चंद्र मोहन पपनैं को देश का प्रतिष्ठित 'तिलका मांझी' राष्ट्रीय सम्मान के तहत शाल ओढा कर, स्मृति चिन्ह व प्रशस्ति पत्र, खचाखच भरे सभागार में, मुख्य अतिथियों द्वारा, तालियों की गडगड़ाहट के मध्य प्रदान कर सम्मानित किया गया।

सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि, राज्यसभा सांसद व भाजपा राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत गौतम द्वारा, सम्मान प्राप्त सभी प्रतिष्ठित जनो को बधाई देकर व्यक्त किया गया, जिस महापुरुष के नाम पर सम्मान दिया जा रहा है, उनका योगदान बहुत बड़ा रहा है। व्यक्त किया गया, आज सम्मानित हुए लोग भी, अपने-अपने क्षेत्र में बहुत कुछ कर रहे हैं। आयोजकों द्वारा बहुत बड़ा काम किया गया है। वर्तमान पीढी को, स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों की गाथा बतानी होगी। व्यक्त किया गया, कर्म छोटा बड़ा हो सकता है, जाति नहीं। अंग्रेजो ने हिन्दुस्तान की मजबूत संस्कृति पर ही सबसे पहले आक्रमण किया था। व्यक्त किया गया, संघर्ष करने वालों मे शक्ति ज्यादा होती है, तिलका मांझी उसका उदाहरण था। तिलका मांझी की गाथा व विचारों को आगे बढ़ाना होगा, उसका स्मारक बनेगा। स्मृति को संजोया जायेगा।

मुख्य अतिथि, गांधीवादी विचारक राधा भट्ट द्वारा, सम्मान प्राप्त प्रतिष्ठित जनो के प्रति व्यक्त किया गया, आपका सम्मान कर, हम स्वंय सम्मानित हुए हैं। गौरव महसूस कर रहे हैं। मुख्य अतिथि द्वारा व्यक्त किया गया, आयोजक प्रसून लतांत द्वारा एक गुमनाम व्यक्ति को उभारा गया है। तिलका मांझी की स्मृति है, भाव है, जो हमे चैन नहीं लेने नहीं देता है।

व्यक्त किया गया, आदिवासियों मे बहुत सारे लोग हैं, उनके अंदर जो स्परिट रही है, उसे जिंदा करने की जरूरत है। तिलका मांझी को कौन बनाता है, जो शासको के कष्ट झेल कर भी, माफी नहीं मांगता है। व्यक्त किया गया, कई लोग, आदिवासी क्षेत्रों मे कुछ महिलाओ के लिए अप्रचलित कार्यो के लिए कार्य कर रहे हैं। अप्रचलित कार्यो को करने का साहस सबसे बड़ा है। एक स्परिट से समाज बदलता है। सरकारे बदलती हैं। स्परिट नहीं है तो कुछ नहीं हो सकता है। बाहर निकल कर कुछ करने की जरूरत है। आपने जो रास्ता पकड़ा है, कष्ट पूर्ण है। आपके अंदर एक चींगारी होनी चाहिए, आग होनी चाहिए। यह जो आप कर रहे हैं, तिलका मांझी की स्परिट है।


Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it