Begin typing your search...

अमित शाह ने किसानों को वार्ता के लिए बुलाया: SKM ने लगाई इन पांच नामों पर मुहर, अगली बैठक 7 दिसंबर को

इस बैठक में केंद्र सरकार से वार्ता करने के लिए 5 सदस्य कमेटी बनाई गई है।

अमित शाह ने किसानों को वार्ता के लिए बुलाया: SKM ने लगाई इन पांच नामों पर मुहर, अगली बैठक 7 दिसंबर को
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर सुबह 11 बजे से चल रही संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) की महत्वपूर्ण बैठक दोपहर में 3:30 बजे समाप्त हो गई। इस बैठक में केंद्र सरकार से वार्ता करने के लिए 5 सदस्य कमेटी बनाई गई है। कमेटी में किसान नेता बलवीर सिंह राजेवाल, गुरनाम सिंह चढूनी, युद्धवीर सिंह, अशोक धावले और शिव कुमार कक्का शामिल किए गए हैं।

SKM से जुड़े सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस कमेटी के सदस्यों को वार्ता के लिए बुलाया है। कमेटी की तरफ से 5 नाम सुझाए गए हैं। यह वार्ता कब और कहां होगी, यह अभी तय नहीं हुआ है। SKM का कहना है कि अभी हमारी कई मांग लंबित हैं। यदि आज ही केंद्र सरकार हमारी सभी मांग मान लेती है तो हम यह आंदोलन आज ही समाप्त करके घर लौटने के लिए तैयार हैं।

एक तरह से SKM ने किसान आंदोलन की गेंद केंद्र सरकार के पाले में डाल दी है। उनका कहना है कि जैसे ही वार्ता की जगह और समय तय होगा, वैसे ही हमारी कमेटी वहां चली जाएगी और वार्ता करेगी।

गौरतलब है कि पंजाब की 32 जत्थेबंदियां अब आंदोलन आगे चलाने के मूड में नहीं हैं। इस पर फैसला लेने के लिए आज SKM ने सिंघु बॉर्डर पर महत्वपूर्ण बैठक बुलाई थी। इस बैठक में तय होना था कि आंदोलन आगे चलेगा या नहीं। इधर SKM ने किसान आंदोलन में मृत हुए 702 किसानों की सूची केंद्र सरकार के कृषि मंत्रालय को ईमेल के जरिए भेजी है।

PM को लिखे पत्र का नहीं मिला जवाब : SKM

इससे पहले 3 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा था कि इस बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था, लेकिन उसका कोई जवाब नहीं मिला। SKM के किसान नेता बलबीर राजेवाल, डॉ. दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढ़ूनी, जगजीत डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, युद्धवीर सिंह और शिव कुमार शर्मा कक्काजी ने कहा कि भाजपा के शासन वाले हरियाणा, UP, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश और हिमाचल प्रदेश में किसानों पर केस दर्ज किए गए हैं। इसलिए सभी केस वापस लेने होंगे।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it