Top
Begin typing your search...

अगर घर पर रहकर कोरोना से हुए हैं ठीक, तो आपके लिए है ये रहत भरी खबर

अगर घर पर रहकर कोरोना से हुए हैं ठीक, तो आपके लिए है ये रहत भरी खबर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

देश भर में हर दिन कोरोना के नए आंकड़े सामने आ रहे हैं. हर जगह के अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं. कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों को ठीक होने में काफी वक्त लग जा रहा है. हालांकि, कोरोना के तमाम मरीज होम आइसोलेशन में रहते हुए ठीक भी हो रहे हैं.

एक नई स्टडी में अस्पताल में भर्ती ना होने वाले इन मरीजों के लिए राहत की खबर आई है. मेडिकल जर्नल द लैंसेट की स्टडी में दावा किया गया है कि Covid-19 के जो मरीज अस्पताल में भर्ती नहीं होते हैं, उनमें इस वायरस का लॉन्ग टर्म गंभीर इफेक्ट कम होता है.

स्टडी में कहा गया है कि अस्पताल में भर्ती ना होने वाले कोरोना के मरीजों में गंभीर दीर्घकालिक प्रभाव का खतरा कम होता है, हालांकि इन्हें बार-बार किसी ना किसी इंफेक्शन को लेकर डॉक्टर के पास जाने की जरूरत पड़ती है.

स्टडी में कहा गया है, 'SARS-CoV-2 से संक्रमित होने के बाद जिन्हें अस्पताल में भर्ती होने की कम जरूरत पड़ती है, उनमें कोरोना से ठीक होने के बाद होने बाद होने वाले गंभीर खतरे की संभावना बहुत कम होती है. हालांकि ये लोग Covid-19 से जुड़ी किसी ना किसी समस्या को लेकर अस्पताल के चक्कर लगाते रहते हैं.

स्टडी के अनुसार, भले ही अस्पताल में भर्ती ना होने वाले मरीजों को आगे चलकर कोई गंभीर खतरा नहीं होता है लेकिन इनमें कुछ दिनों के बाद थ्रोम्बोएम्बोलिज्म की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है.

कोरोना के कई मरीज ठीक होने के 2 हफ्ते से लेकर 6 महीने के बाद तक ब्रोन्कोडायलेटर थेरेपी की जरूरत से लेकर डिस्पनिया तक की शिकायत लेकर वापस अस्पताल आ रहे हैं.

स्टडी के अनुसार भले ही घर पर ठीक होने वाले कोरोना के मरीजों को आगे चल कर इसका कोई गंभीर खतरा ना हो लेकिन बार-बार डॉक्टर के पास जाने की जरूरत ये बताता है कि ये वायरस शरीर में कोई ना कोई लक्षण छोड़ जाता है.

आपको बता दें कि इससे पहले कई स्टडीज में ये दावा किया जा चुका है कि कोरोना के मरीजों पर इस बीमारी का असर लंबे समय तक रहता है. इन मरीजों में कई तरह की मानसिक बीमारी, दिल से जुड़ी बीमारी, डायबिटीज की शिकायत और कमजोरी जैसे लक्षण देखे जा रहे हैं.

माजिद अली खां

About author
माजिद अली खां, पिछले 15 साल से पत्रकारिता कर रहे हैं तथा राजनीतिक मुद्दों पर पकड़ रखते हैं. 'राजनीतिक चौपाल' में माजिद अली खां द्वारा विभिन्न मुद्दों पर राजनीतिक विश्लेषण पाठकों की सेवा में प्रस्तुत किए जाते हैं.
Next Story
Share it