Top
Begin typing your search...

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को मानसून सत्र में सदन की कार्यवाही न चलने पर गंभीर दुख है..

बिड़ला ने कहा कि पूरे मानसून सत्र के दौरान लोकसभा ने केवल 21 घंटे काम किया

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को मानसून सत्र में सदन की कार्यवाही न चलने पर गंभीर दुख है..
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली :बुधवार को सदन की कार्यवाही समाप्त होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला गंभीर दिखाई दिए । ओम बिड़ला ने कहा कि यह दुख का विषय है कि मानसून सत्र के दौरान सदन की कार्यवाही संचालित रूप से नहीं चल सकी। ओम बिड़ला ने कहा आज सदन के सदस्य गरिमा को लांघ रहे हैं यह गंभीर बात है। यदि राजनीतिक प्रणाली ही ऐसा करेगी तो हम लोगों के लिए क्या सबक दे रहे हैं इस पर हमे विचार करना चाहिए!!

बिड़ला ने कहा कि पूरे मानसून सत्र के दौरान लोकसभा ने केवल 21 घंटे काम किया और इसकी भागीदारी 22 प्रतिशत रही। राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने बुधवार को सदन में विपक्षी सांसदों के हंगामे की बात कही। नायडू जब बोल रहे थे तब भी लगातार विभिन्न मुद्दों पर नारेबाजी की जा रही थी, नायडू ने कहा कि कुछ विपक्षी सांसदों ने सदन की पवित्रता को नष्ट कर दिया और वह कल रात सो नहीं सके।

कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस बीच, पेगासस जासूसी विवाद और अन्य मुद्दों पर एक संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए कांग्रेस, द्रमुक और तृणमूल कांग्रेस सहित विभिन्न दलों के विपक्षी नेताओं ने बुधवार को बैठक की। विपक्षी सूत्रों ने बताया कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के चैंबर में हुई बैठक में करीब 14 दलों का प्रतिनिधित्व किया गया। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी चर्चा में शामिल हुए।

इससे पहले दिन में, लोकसभा को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया, जबकि राज्यसभा को विपक्षी सांसदों के हंगामे के बीच दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कल सदन में हंगामे की बात कहकर भावुक हो गए।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it