Top
Begin typing your search...

ट्विटर पर बरसे राहुल गांधी, ट्विटर ने कहा, हम अब भी अपनी राय पर कायम

ट्विटर पर बरसे राहुल गांधी, ट्विटर ने कहा, हम अब भी अपनी राय पर कायम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ट्विटर के रवैइये से नाराज कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने और पार्टी के तमाम अकाउंट्स को लॉक करने को लेकर ट्विटर पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि यह अमेरिकी कंपनी पक्षपातपूर्ण है, यह भारत की राजनीतिक प्रक्रिया में दखल दे रही है और सरकार के कहे मुताबिक चल रही है। उन्होंने यह दावा भी किया कि ट्विटर की ओर से जो किया गया है वह भारत के लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला है।

राहुल गांधी ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि मेरा ट्विटर अकाउंट बंद करके वे हमारी राजनीतिक प्रक्रिया में दखल दे रहे हैं। एक कंपनी हमारी राजनीति का दायरा तय करने के लिए अपने कारोबार का उपयोग कर रही है। एक नेता के तौर पर मैं इसे पसंद नहीं करता। कांग्रेस ने दावा किया है कि उनके 5 हजार से ज्यादा ट्विटर अकाउंट ब्लॉक किए गए हैं, जिसमें कुछ बड़े नेताओं के अकाउंट भी शामिल हैं।

कांग्रेस लीडर ने कहा कि एक राजनेता के तौर पर मैं इस तरह की चीजें पसंद नहीं करता हूं। यह देश के लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला है। यह राहुल गांधी पर ही अटैक नहीं है। यह सिर्फ राहुल गांधी को चुप कराने की बात नहीं है। मेरे 19 से 20 मिलियन के करीब फॉलोअर्स थे और आप उन्हें अपनी राय व्यक्त करने से रोक रहे हैं। आप यह क्या कर रहे हैं। राहुल गांधी ने कहा, 'इस हरकत से ट्विटर ने यह साबित किया है कि वह न्यूट्रल प्लेटफॉर्म नहीं है। निवेशकों के लिए यह खतरनाक चीज है क्योंकि राजनीतिक मुकाबले में किसी की साइड लेना ट्विटर के लिए गलत अंजाम वाला हो सकता है।'

राहुल गांधी ने कहां कि हमें संसद में भी बोलने नहीं दिया जा रहा है। मीडिया पर नियंत्रण है। मैं मानता हूं कि एक उम्मीद की किरण थी, जहां हम ट्वीट के जरिए अपनी बात रख सकते थे। लेकिन ऐसा नहीं है। इससे पता चलता है कि ट्विटर न्यूट्रल प्लेटफॉर्म नहीं है बल्कि ऑब्जेक्टिव है, जिसका कुछ लोग अपने तरीके से इस्तेमाल कर रहे हैं। यह पक्षपाती प्लेटफॉर्म है और यह वही सुनता है, जो मौजूदा सरकार कहती है। यही नहीं राहुल गांधी ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि हमें सवाल पूछना चाहिए कि क्या हम कंपनियों को अपनी राजनीति तय करने का अधिकार दे सकते हैं क्योंकि सरकार उसके साथ है?

राहुल गांधी के बयान पर अब ट्विटर की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है। सोशल मीडिया कंपनी ने एक बार फिर से गुरुवार का ही अपना बयान दोहराते हुए कहा है कि उसने न्यायिक तौर पर बिना किसी पक्षपात के अपनी कार्रवाई की है। ट्विटर का कहना है कि उसने उस तस्वीर को लेकर एक्शन लिया है, जिसे राहुल गांधी समेत सैकड़ों अकाउंट्स से शेयर किया गया था। यह तस्वीर हमारे नियमों और भारत सरकार के कानूनों का उल्लंघन करती है। ट्विटर का कहना है कि इस तरह की निजी जानकारियां अन्य चीजों के मुकाबले ज्यादा रिस्की होती हैं। हमारा लक्ष्य किसी भी व्यक्ति की प्राइवेसी और सेफ्टी का ख्याल रखना है।

बता दें कि बीते सप्ताह कांग्रेस नेता राहुल गांधी दिल्ली नांगल गांव में रेप और मर्डर की शिकार हुए एक दलित बच्ची के परिजनों से मुलाकात करने पहुंचे थे। इस मुलाकात की तस्वीर उन्होंने ट्विटर पर शेयर कर दी थी, जिसमें पीड़ित बच्ची के माता-पिता नजर आ रहे थे। उनकी ओर से शेयर इस तस्वीर को बच्ची की पहचान उजागर करने वाला माना गया था, जो पॉक्सो कानून के मुताबिक गलत है। इस पर ट्विटर ने एक्शन लिया था, लेकिन राहुल गांधी का खाता ब्लॉक किए जाने के बाद तमाम कांग्रेसियों ने वही तस्वीर शेयर की थी और ट्विटर ने उनके अकाउंट्स को भी लॉक कर दिया था।



सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it