Begin typing your search...

असंगठित कामगारों के पंजीकरण ने पकड़ी रफ्तार :बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल राज्य अग्रणी

आज तक, इस पोर्टल पर 1,03,12,095 कामगार पंजीकरण करा चुके हैं। इनमें से लगभग 43 प्रतिशत महिला और 57 प्रतिशत पुरुष लाभार्थी हैं।

असंगठित कामगारों के पंजीकरण ने पकड़ी रफ्तार :बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल राज्य अग्रणी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पीआईबी, नई दिल्ली : ई-श्रम पोर्टल पर असंगठित कामगारों के पंजीकरण को सुगम बनाने के लिए 26 अगस्त को शुरू किए गए अभियान को व्‍यापक समर्थन मिला है। लगभग 24 दिन में, 1 करोड़ से ज्यादा कामगारों ने इस पोर्टल पर पंजीकरण कराया है। आज तक, इस पोर्टल पर 1,03,12,095 कामगार पंजीकरण करा चुके हैं। इनमें से लगभग 43 प्रतिशत महिला और 57 प्रतिशत पुरुष लाभार्थी हैं।

निर्माण, परिधान विनिर्माण, मछली पालन, दिहाड़ी और अस्थायी मजदूर, रेहड़ी पटरी वाले, घरेलू कार्य, कृषि व सहायक कार्य, परिवहन जैसे विभिन्न क्षेत्रों के असंगठित कामगारों का एक समग्र डाटाबेस तैयार करने पर पहली बार ध्यान केंद्रित करने के चरण में, केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री भूपेंद्र यादव और राज्य मंत्री श्री रामेश्वर तेली ने 26 अगस्त को ई-श्रम पोर्टल का शुभारम्भ किया था।

इन क्षेत्रों में काम करने वालों में प्रवासी कामगारों की बड़ी हिस्सेदारी है। आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 के अनुसार, देश में 38 करोड़ असंगठित कामगार (यूडब्ल्यू) होने का अनुमान है, जिन्हें इस पोर्टल पर पंजीकरण के लिए लक्षित किया जाएगा। ये प्रवासी कामगार अब ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण के माध्यम से विभिन्न सामाजिक सुरक्षा और रोजगार आधारित योजनाओं के लाभ भी ले सकते हैं।

Desk Editor
Next Story
Share it