Top
Begin typing your search...

दक्षिण भारत तक पहुँची कुमार विश्वास की गाँव बचाओ मुहिम, आंध्र प्रदेश में भी खुला कोविड केयर सेंटर

ग्रामीणों को ऑनलाइन मेडिकल परामर्श देने के लिए चिकित्सकों की एक टीम, कोविड केयर किट, जीवन रक्षक दवाएँ तथा आक्सीमीटर, थर्मामीटर जैसे आवश्यक उपकरण भी उपलब्ध कराए गए हैं।

दक्षिण भारत तक पहुँची कुमार विश्वास की गाँव बचाओ मुहिम, आंध्र प्रदेश में भी खुला कोविड केयर सेंटर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

प्रसिद्ध कवि डॉक्टर कुमार विश्वास द्वारा गाँवों को कोरोना मुक्त कराने की देशव्यापी मुहिम अब दक्षिण भारत में भी पहुँच गयी है। कुछ दिनों पहले ही कुमार ने इस आपदा काल में "गॉंव बचाओ" मुहिम की शुरुआत करते हुए सभी लोगों से अपने-अपने गॉंवों में सभी दवाईयॉं और आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था। इस दिशा में कार्य कर रहे सभी लोगों को इस हेतु कुमार विश्वास के द्वारा सभी ज़रूरी संसाधन एवं प्रशिक्षण भी मुहैया कराया जा रहा है।

कुछ ही दिनों में देश भर के सैकड़ों गाँवों में कोविड केयर सेंटर की शुरुआत हो गयी। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड से लेकर बिहार, छत्तीसगढ़ और राजस्थान तक हर जगह कुमार के इस प्रयास को व्यापक सफलता भी मिल रही है। कई गाँवों में तो सेंटर ने जब अपना उद्देश्य पूरा करके कोरोना को क़ाबू में कर लिया तो वहाँ अब उन सेंटरों को बंद भी किया जा रहा है। इसी दौरान कुमार विश्वास के पास दक्षिण भारत के राज्यों से भी मदद की माँग आने लगी और इस क्रम में प्रयास करते हुए कुमार ने दक्षिण भारत के सूदूर इलाक़ों में भी कोविड केयर सेंटर की शुरुआत कर दी है। '


कुमार ने आंध्र प्रदेश के ईस्ट गोदावरी ज़िले में बसे एक तटवर्ती गाँव "मल्लम" में कोविड केयर सेंटर खुलवाया है जिसकी जानकारी उन्होंने स्वयं ट्वीट करके दी है। कुमार ने आज दोपहर उस सेंटर की तस्वीरों को पोस्ट करते हुए उसे मशहूर तेलगू साहित्यकार सिंगिरेड्डी नारायण रेड्डी को समर्पित किया है। कुमार ने अपनी पोस्ट में लिखा है, "सुदूर दक्षिण भारत में स्थित आंध्र प्रदेश के इस्ट गोदावरी ज़िले के 'मल्लम' गॉंव में वंचितों के बीच मदद की इस मुहिम को पहुँचाना थोड़ा मुश्किल था परंतु भाषा, दूरी और परिवहन जैसी कई बुनियादी समस्याओं को पार करने के बाद अंततः हम यहॉं पहुँच चुके हैं। यह पूरा प्रयास आंध्र प्रदेश के साहित्य-रत्न पद्मभूषण सिंगिरेड्डी नारायण रेड्डी जी की अतुल्य शारदा-साधना को हिंदी-पट्टी की तरफ़ से एक विनम्र प्रणाम है।

इस बाबत कुमार के कार्यालय से सम्पर्क किए जाने पर पता चला है कि उनके द्वारा आज ही इसके अलावा आंध्र प्रदेश में ही "मल्लम" के पड़ोसी एक अन्य गाँव "राजूपालम" में भी कोरोना केयर सेंटर खोला गया है जहां ग्रामीणों को ऑनलाइन मेडिकल परामर्श देने के लिए चिकित्सकों की एक टीम, कोविड केयर किट, जीवन रक्षक दवाएँ तथा आक्सीमीटर, थर्मामीटर जैसे आवश्यक उपकरण भी उपलब्ध कराए गए हैं।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it