Top
Begin typing your search...

स्वतंत्रता सेनानी राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर अलीगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया..

ये मेरा सौभाग्य था कि जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था, तो मुझे श्यामजी कृष्ण वर्मा जी की अस्थियों को 73 साल बाद भारत लाने में सफलता मिली थी : पीएम

स्वतंत्रता सेनानी राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर अलीगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया..
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पीआईबी, नई दिल्ली : आज अलीगढ़ के लिए, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए बहुत बड़ा दिन है। आज के दिन राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर अलीगढ़ जिले में विश्वविद्यालय बनने जा रहा है, जिसका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया गया।

प्रधानमंत्री का संबोधन -

हमारा सौभाग्य है कि विकास के इतने बड़े कार्यों की शुरुआत आज इस पवित्र दिन से हो रही है। हमारे संस्कार हैं कि जब कोई शुभ कार्य होता है तो हमें अपने बड़े अवश्य याद आते हैं। मैं आज इस धरती के महान सपूत, स्वर्गीय कल्याण सिंह जी की अनुपस्थिति बहुत ज्यादा महसूस कर रहा हूं। आज कल्याण सिंह जी हमारे साथ होते तो राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय और डिफेंस सेक्टर में बन रही अलीगढ़ की नई पहचान को देखकर बहुत खुश हुए होते और उनकी आत्‍मा जहां भी होगी, हमें आशीर्वाद देती होगी।

साथियों,

भारत का हजारों वर्षों का इतिहास ऐसे राष्ट्रभक्तों से भरा है, जिन्होंने समय-समय पर भारत को अपने तप और त्याग से दिशा दी है। हमारी आजादी के आंदोलन में ऐसे कितने ही महान व्यक्तित्वों ने अपना सब कुछ खपा दिया। लेकिन ये देश का दुर्भाग्य रहा कि आजादी के बाद ऐसे राष्ट्र नायक और राष्ट्र नायिकाओं की तपस्या से देश की अगली पीढ़ियों को परिचित ही नहीं कराया गया। उनकी गाथाओं को जानने से देश की कई पीढ़ियां वंचित रह गईं।

20वीं सदी की उन गलतियों को आज 21वीं सदी का भारत सुधार रहा है। महाराजा सुहेलदेव जी हों, दीनबंधु चौधरी छोटूराम जी हों, या फिर अब राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी, राष्ट्र निर्माण में इनके योगदान से नई पीढ़ी को परिचित कराने का ईमानदार प्रयास आज देश में हो रहा है। आज जब देश अपनी आजादी के 75 वर्ष का पर्व मना रहा है, आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तो इन कोशिशों को और गति दी गई है। भारत की आजादी में राजा महेंद्र प्रताप सिंह के योगदान को नमन करने का ये प्रयास ऐसा ही एक पावन अवसर है।

साथियों,

आज देश के हर उस युवा को, जो बड़े सपने देख रहा है, जो बड़े लक्ष्य पाना चाहता है, उसे राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी के बारे में अवश्य जानना चाहिए, अवश्य पढ़ना चाहिए। राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी के जीवन से हमें अदम्य इच्छाशक्ति, अपने सपनों को पूरा करने के लिए कुछ भी कर गुजरने वाली जीवटता आज भी हमें सीखने को मिलती है। वो भारत की आजादी चाहते थे और अपने जीवन का एक-एक पल उन्होंने इसी के लिए समर्पित कर दिया था। उन्होंने सिर्फ भारत में ही रहकर और भारत में ही लोगों को प्रेरित नहीं किया, बल्कि वो भारत की आजादी के लिए दुनिया के कोने-कोने में गए। अफगानिस्तान हो, पोलैंड हो, जापान हो, दक्षिण अफ्रीका हो, अपने जीवन पर हर खतरा उठाते हुए, वो भारत माता को बेड़ियों से आजाद करने के लिए जुटे रहे, जी-जान से जुटे रहे, जीवनभर काम करते रहे।

मैं आज के युवाओं से कहूंगा कि जब भी, मेरे देश के युवाओ मेरी बात को गौर से सुनिए, में देश के युवाओं से कहूंगा जब भी उन्हें कोई लक्ष्य कठिन लगे, कुछ मुश्किलें नजर आएं तो मेरा आपसे अनुरोध है कि आप राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी को जरूर याद करना, आपका हौसला बुलंद हो जाएगा। राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी जिस तरह एक लक्ष्य, एक निष्ठ होकर भारत की आजादी के लिए जुटे रहे, वो आज भी हम सबको प्रेरणा देता है।

और साथियों,

आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं, तो मुझे देश के एक और महान स्‍वातंत्र सेनानी, गुजरात के सपूत, श्याम जी कृष्ण वर्मा जी का भी स्मरण हो रहा है। प्रथम विश्व युद्ध के समय राजा महेंद्र प्रताप जी विशेषतौर पर श्याम जी कृष्ण वर्मा जी और लाला हरदयाल जी से मिलने के लिए यूरोप गए थे। उसी बैठक में जो दिशा तय हुई, उसका परिणाम हमें अफगानिस्तान में, भारत की पहली निर्वासित सरकार के तौर पर देखने को मिला। इस सरकार का नेतृत्व राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी ने ही किया था।

ये मेरा सौभाग्य था कि जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था, तो मुझे श्यामजी कृष्ण वर्मा जी की अस्थियों को 73 साल बाद भारत लाने में सफलता मिली थी। और अगर आपको कभी कच्‍छ जाने का मौका मिले तो कच्‍छ के मांडवी में श्‍याम जी कृष्‍ण वर्मा जी का एक बहुत ही प्रेरक स्‍मारक है, जहां उनके अस्थि क श रखे गए हैं, वो हमें मां भारत के लिए जीने की प्रेरणा देते हैं।

आज देश के प्रधानमंत्री के नाते, मुझे फिर से एक बार ये सौभाग्य मिला है कि मैं राजा महेंद्र प्रताप जी जैसे विजनरी और महान स्वतंत्रता सेनानी के नाम पर बन रही यूनिवर्सिटी का शिलान्यास कर रहा हूं। मेरे जीवन का ये बड़ा सौभाग्‍य है। और ऐसे पवित्र अवसर पर आप इतनी बड़ी संख्‍या में आशीर्वाद देने आए, जनता-जनार्दन के दर्शन करना, ये भी शक्तिदायक होता है।

साथियों,

राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी, सिर्फ भारत की आज़ादी के लिए ही नहीं लड़े, उऩ्होंने भारत के भविष्य के निर्माण की नींव में भी सक्रिय योगदान दिया था। उन्होंने अपनी देश-विदेश की यात्राओं से मिले अनुभवों का उपयोग भारत की शिक्षा व्यवस्था को आधुनिक बनाने के लिए किया। वृंदावन में आधुनिक टेक्‍नीकल कॉलेज, उन्होंने अपने संसाधनों से, अपनी पैतृक संपत्ति को दान करके बनवाया। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के लिए भी बड़ी जमीन राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने ही दी थी। आज आज़ादी के इस अमृतकाल में, जब 21वीं सदी का भारत शिक्षा और कौशल के नए दौर की तरफ बढ़ चला है, तब मां भारती के ऐसे अमर सपूत के नाम पर विश्वविद्यालय का निर्माण उन्हें सच्ची कार्यांजलि है। इस विचार को साकार करने के लिए योगी जी और उनकी पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई।

साथियों,

ये विश्वविद्यालय आधुनिक शिक्षा का एक बड़ा केंद्र तो बनेगा ही, साथ ही देश में डिफेंस से जुड़ी पढ़ाई, डिफेंस मैन्युफेक्चरिंग से जुड़ी टेक्नोलॉजी और मैनपावर बनाने वाला सेंटर भी बनेगा। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में जिस तरह शिक्षा, कौशल और स्थानीय भाषा में पढ़ाई पर बल दिया गया है, उससे इस विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को बहुत लाभ होगा।

अपनी सैन्य ताकत को मज़बूत करने के लिए आत्मनिर्भरता की तरफ बढ़ते भारत के प्रयासों को इस विश्वविद्यालय में होने वाली पढ़ाई नई गति देगी। आज देश ही नहीं दुनिया भी देख रही है कि आधुनिक ग्रेनेड और राइफल से लेकर लड़ाकू विमान, आधुनिक ड्रोन, युद्धपोत, ये सब भारत में ही निर्मित करने का अभियान चल रहा है। भारत दुनिया के एक बड़े डिफेंस इंपोर्टर की छवि से बाहर निकलकर…वरना हमारी छवि यही है हम डिफेंस के लिए जो भी चाहिए, इंपोर्ट करते हैं, बाहर से मंगवाते रहते हैं। आजादी के 75 साल हो गए, हम मंगवाते रहते हैं...इस छवि से बाहर निकलकर दुनिया के एक अहम डिफेंस एक्सपोर्टर की नई पहचान बनाने के संकल्‍प के साथ आगे बढ़ रहे हैं। भारत की इस बदलती पहचान का एक बहुत बड़ा केंद्र ये हमारा उत्तर प्रदेश बनने वाला है। और उत्‍तर प्रदेश के सांसद के नाते मुझे इस बात का विशेष गर्व है।

साथियों,

थोड़ी देर पहले डिफेंस कॉरिडोर के 'अलीगढ़ नोड' की प्रगति का मैंने अवलोकन किया है। अलीगढ़ में ही डिफेंस मैन्युफेक्चरिंग से जुड़ी डेढ़ दर्जन से अधिक कंपनियां सैकड़ों करोड़ रुपए के निवेश से हजारों नए रोजगार यहां बनाने वाली हैं। अलीगढ़ नोड में छोटे हथियार, आयुध, ड्रोन, एयरोस्पेस, मेटल कम्पोनेन्ट्स, एन्टी ड्रोन सिस्टम, डिफेन्स पैकेजिंग, ऐसे उत्पाद बन सकें, इसके लिए नए उद्योग लगाए जा रहे हैं। ये बदलाव अलीगढ़ और आस पास के क्षेत्र को एक नई पहचान देगा।

साथियो,

अभी तक लोग अपने घर की, दुकान की सुरक्षा अलीगढ़ के भरोसे रहते थे, पता है ना? क्‍योंकि अलीगढ़ का ताला अगर लगा होता था तो लोग निश्चिंत हो जाते थे। और मुझे आज बचपन की एक बात करने का मन कर रहा है। करीब 55-60 साल पुरानी बात है। हम बच्‍चे थे तो अलीगढ़ से ताले के जो सेल्‍समेन होते थे, एक मुस्लिम मेहमान थे। वो हर तीन महीने हमारे गांव आते थे। अभी भी मुझे याद है वो काली जैकेट पहनते थे। और सेल्‍समेन के नाते दुकानों में अपना ताला रखकर जाते थे और तीन महीने के बाद आ करके अपने पैसे ले जाते थे। गांव के अगल-बगल के गांवों में भी व्‍यापारियों के पास जाते थे, उनको भी ताले देते थे। और मेरे पिताजी से उनकी बहुत अच्‍छी दोस्‍ती थी। और वो आते थे तो चार-छह दिन हमारे गांव में रुकते थे। और दिनभर जो पैसे वो वसूल करके ले आते थे तो मेरे पिताजी के पास छोड़ देते थे और मेरे पिताजी उनके पैसों को संभालते थे। और चार-छह दिन के बाद जब वो मेरा गांव छोड़ करके जाते थे तो मेरे पिताजी से वो सारे पैसे ले करके फिर वो अपना ट्रेन से निकल जाते थे। और हम बचपन में दो शहरों से उत्‍तर प्रदेश के बड़े परिचित रहे, एक सीतापुर और दूसरा अलीगढ़। हमारे गांव में अगर किसी को आंख की बीमारी में ट्रीटमेंट करनी है तो हर कोई कहता था सीतापुर जाओ। हम ज्‍यादा समझते नहीं थे, लेकिन सीतापुर सबसे सुनते थे। और दूसरा इस महाशय के कारण अलीगढ़ बार-बार सुनते थे।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it