Top
Begin typing your search...

WHO की चेतावनी- कोरोना के इलाज में न करें इस दवा का इस्तेमाल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की चीफ साइंटिस्ट डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने इस दवा के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी दी है. उनके मुताबिक ये दवाई सुरक्षित नहीं है.

WHO की चेतावनी- कोरोना के इलाज में न करें इस दवा का इस्तेमाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इस वक्त दुनिया में कोरोना के इलाज के लिए कोई खास दवाई नहीं है. दूसरी बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयां ही इस दौरान मरीजों को दी जाती है. सोमवार को गोवा सरकार (Goa Government) ने कोरोना मरीजों के इलाज में आइवरमेक्टिन (Ivermectin) दवा के इस्तेमाल की मंजूरी दे थी. लेकिन अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की चीफ साइंटिस्ट डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने इस दवा के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी दी है. उनके मुताबिक ये दवाई सुरक्षित नहीं है.

सौम्या स्वामीनाथन ने ट्वीट करते हुए लिखा कि WHO आइवरमेक्टिन दवाई के इस्तेमाल के खिलाफ है. किसी भी दवा की सुरक्षा और साथ ही वो कितनी प्रभावी है इसका ध्यान भी रखा जाना चाहिए. स्वामीनाथन के मुताबिक इस दवा का इस्तेमाल सिर्फ क्लीनिकल ट्रायल में होना चाहिए. उन्होंने अपने ट्वीट में मर्क नाम की कंपनी का एक बयान भी अटैच किया है जिसमें इस दवा के बारे में बताया गया है.

क्यों दी गई चेतावनी?

बता दें कि इस साल फरवरी में मर्क ने कोरोना के मरीजों पर आइवरमेक्टिन के इस्तेमाल को लेकर रिपोर्ट छापी थी. इसके मुताबिक क्लीनिकल ट्रायल में इस बात के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि ये दवाई कोरोना के मरीजों पर काम करती है. साथ ही कंपनी की तरफ से वैज्ञानिकों ने भी कहा था कि ये दवा क्लीनिकल ट्रायल में कितनी सुरक्षित है इसके डेटा भी नहीं मिले हैं. अमेरिका में ये दवा STROMECTOL के नाम से मिलती है. दावा किया गया है कि इसके कई गंभाीर साइड इफेक्ट हैं. पिछले दो महीने के दौरान WHO ने दूसरी बार आइवरमेक्टिन के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी दी है.

क्या कहा था गोवा सरकार ने?

गोवा के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि, आइवरमेक्टिन 12 MG दवा का इस्तेमाल पांच दिनों तक करना होगा. यूके, इटली, स्पेन और जापान के एक्सपर्ट्स ने इस दवा को कोरोना मृत्यु दर कम करने में कारगर पाया है. न सिर्फ मृत्यु दर बल्कि रिकवरी और वायरल लोड कम करने में भी इसका बेहतर योगदान होता है. ये दवा कोरोना संक्रमण नहीं रोक सकती लेकिन बीमारी को गंभीर होने से बचाने में कारगर है.

माजिद अली खां

About author
माजिद अली खां, पिछले 15 साल से पत्रकारिता कर रहे हैं तथा राजनीतिक मुद्दों पर पकड़ रखते हैं. 'राजनीतिक चौपाल' में माजिद अली खां द्वारा विभिन्न मुद्दों पर राजनीतिक विश्लेषण पाठकों की सेवा में प्रस्तुत किए जाते हैं.
Next Story
Share it