Begin typing your search...

3 घंटे के लिए EVM दे दें, BJP गुजरात में एक सीट नहीं जीत सकती - सौरभ भारद्वाज

क्या केजरीवाल जबाब की जगह बात बदल रहे है.

3 घंटे के लिए EVM दे दें, BJP गुजरात में एक सीट नहीं जीत सकती - सौरभ भारद्वाज
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा में एक दिन का स्पेशल सेशन मंगलवार को हुआ। इसमें आप के विधायक सौरभ भारद्वाज ईवीएम जैसी मशीन लेकर आए। उन्होंने टेम्परिंग का डेमो दिया। उन्होंने दावा किया कि 3 घंटे के लिए EVM दे दें, BJP गुजरात में एक सीट नहीं जीत पाएगी। बता दें कि गुजरात में साल के आखिर में चुनाव होने हैं।


सदन की कार्यवाही शुरू होते ही बीजेपी विधायक ने आप के एक मंत्री से जुड़े 1000 करोड़ रुपए के करप्शन का मुद्दा उठाया और बहस की मांग की। स्पीकर ने इसकी इजाजत नहीं दी। हंगामे के बाद स्पीकर ने विजेंद्र को सदन से मार्शल बुलाकर बाहर कर दिया। इसके बाद अलका लांबा ने ईवीएम को लेकर बहस शुरू की।



अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा- ''देश में चल रहे एक बहुत बड़े षड्यंत्र का सच आज सदन में सौरभ भारद्वाज सामने रखेंगे। उन्हें जरूर सुनिएगा। सत्यमेव जयते।'' अपडेट्स...

स्पीकर ने पुंछ के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों को भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इसके लिए दो मिनट का मौन रखा गया।
स्पीकर ने कहा- "शालीनता और मर्यादा का परिचय दें सदस्य। जो ऐसा नहीं करेगा उसे सदन से बाहर कर दिया जाएगा। बीजेपी के विजेंद्र गुप्ता ने काम रोको प्रस्ताव पेश किया तो स्पीकर ने उन्हें वॉर्निंग दी। बीजेपी के नए विधायक सिरसा को भी अध्यक्ष ने बैठने को कहा।"
आप से सस्पेंड किए गए कपिल मिश्रा भी सदन में पहुंचे।
विजेंद्र गुप्ता एक हजार करोड़ रुपए के घोटाले के दस्तावेज लेकर सदन में पहुंचे। बीजेपी का स्थगन प्रस्ताव स्पीकर ने खारिज कर दिया। बीजेपी के विजेंद्र गुप्ता को स्पीकर ने बाहर जाने का ऑर्डर दिया। जब वे नहीं गए तब मार्शल उन्हें बाहर ले गए।
अलका लांबा ने कहा- मनजिंदर सिरसा जी अच्छी तस्वीर आएगी। गुप्ता जी को बाहर ले जाने दीजिए।
आपको बता दें कि राजौरी उपचुनाव में बीजेपी के मनजिंदर सिरसा जीते हैं। विधानसभा में जेडीयू, आरजेडी और टीएमसी के नेता भी मौजूद हैं।

EVM विवाद पर इलेक्शन कमीशन ने जवाब नहीं दिया
अलका लांबा ने कहा- "उत्तर प्रदेश के चुनाव के बाद EVM पर सवाल उठे। हमने एमसीडी इलेक्शन के बाद चुनाव आयोग से शिकायत की। हमने कुछ प्रश्न रखे। इलेक्शन कमीशन ने जवाब नहीं दिया। कमीशन के पास जेनरेशन 1, 2 और 3 की मशीनें हैं। लेकिन एमसीडी ने कंडम मशीनों का इस्तेमाल किया।"
राजस्थान से मशीनें मंगाई गईं। नई EVM मशीनों का इस्तेमाल क्यों नहीं किया गया? अगर सवाल उठे हैं तो जांच होनी चाहिए। तुगलकाबाद में तीन EVM मशीनों के साथ छेड़छाड़ की गई।"
हमने कहा कि हमें एक EVM मशीन दे दीजिए, हम टेम्परिंग करके दिखाएंगे। 2010 में कुछ साइंटिस्ट्स ने ये कोशिश की थी। उनके ऊपर कार्रवाई हुई। यूपी में पेट्रोल पंपों पर साबित हो गया कि एक चिप के जरिए चोरी हो सकती है।" "लांबा ने बीजेपी के सिरसा पर आरोप लगाया कि वो राजौरी गार्डन में हारे हैं। उनकी जमानत जब्त हुई है। वहां से आम आदमी पार्टी का कैंडिडेट जीता है।"

सौरभ भारद्वाज ने ईवीएम के साथ टेम्परिंग का डेमो दिया
आप के सौरभ भारद्वाज सदन में EVM जैसी मशीन को लेकर आए। उन्होंने ईवीएम के साथ टेम्परिंग करने का डेमो दिया। सौरभ का दावा- "मेरे जैसा साधारण इंजीनियर भी ये मशीन टेम्पर कर सकता है। एमसीडी के पहले हमारे उम्मीदवारों को भी ये मशीन दिखाई गईं।"
"सौरभ ने मशीन ऑन की। इसका डिस्प्ले क्लियर हो गया। पहले ने झाड़ू दूसरे ने हाथी का बटन दबाया। तीसरे ने बीजेपी को वोट दिया। चौथे ने हाथ पर वोट दिया। पांचवे ने साइकिल पर दिया। यानी सभी को एक-एक वोट मिला। इसी सिलसिले को उन्होंने एक बार फिर दोहराया।"

सुबह 8 बजे क्या होता है?
पहला वोट झाड़ू को गया। दूसरा वोट हाथी पर गया। तीसरे ने कमल और चौथे ने हाथ पर वोट दिया। पांचवे ने साइकिल को वोट दिया। इसी क्रम को दोहराया गया।

सुबह 9 बजे:
पहला वोट हाथी और दूसरा साइकिल और तीसरा कमल पर चौथे ने हाथ पर और पांचवे ने साइकिल पर वोट दिया। इस तरह 10 बज गए। बीजेपी का एक कार्यकर्ता अंदर आया। मशीन में सीक्रेट कोड होते हैं। दस बजे के बाद जितने भी वोट डाले गए वो सब आप को डल जाते हैं। हर पार्टी को जिताने के लिए अलग कोड होते हैं। एक वोटर सिर्फ कोड डालने आता है। अगर हम ये मान लें कि पांच कैंडिडेट हैं। हम किसी भी वक्त ये तय कर सकते हैं कि किस कैंडिडेट को जिताना है। लेकिन इसका कोड अलग होता है।

अब काउंटिंग की बारी है
रिजल्ट
टोटल 19 डाले गए। 6 वोट पाने वाले सिरसा जी जीत गए। इसके बाद असेंबली में हंगामा हो गया। स्पीकर ने कहा कि सौरभ ने कोई गलत टिप्पणी नहीं की।
आप- 2
बीएसपी- 2
बीजेपी-11
कांग्रेस- 2

हकीकत में ये डाले गए
आप-10
बीएसपी- 2
बीजेपी- 3
सपा-2
कांग्रेस- 2

सौरभ ने कहा- इस गड़बड़ी को कोई नहीं पकड़ सकता। हम हवा में तीर नहीं चला रहे। मैंने इलेक्शन कमीशन की वेबसाइट पढ़ी। वहां से तथ्य लिए। भिंड में यही हुआ था।
शिव कुमार मिश्र
Next Story
Share it