Top
Begin typing your search...

अखिलेश यादव का उन्नाव दौरा ,निषाद वोट बैंक को साधने की कोशिश

अखिलेश यादव का उन्नाव दौरेा,निषाद वोट बैंक को साधने की कोशिश..निषाद समाज के बड़े नेता रहे मनोहर लाल की मूर्ति का अनावरण किया

अखिलेश यादव का उन्नाव दौरा ,निषाद वोट बैंक को साधने की कोशिश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उन्नाव: उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों में हलचल तेज हो गई है.सभी राजनीतिक दल अपने अपने हिसाब से जातियों का वोट बैंक अपने पाले में लाना चाहती है.वही यूपी के पूर्व सीएम अखलेश यादव भी आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर काफी एक्टिव नजर आ रहे है.लगातार यूपी के जिलों का दौरा कर रहे है.इसी बीच आज फिर सपा प्रमुख अखिलेश यादव उन्नाव के दौरे पर है. जहा उन्होंने निषाद समाज के नेता की मूर्ति का अनावरण किया है.120 छोटे-छोटे रथ के साथ अखिलेश यादव का उन्नाव जिले में स्वागत किया गया। जिले के निषाद समुदाय के बड़े नेता रहे मनोहर लाल की 85वीं जयंती पर उनकी प्रतिमा का अनावरण होगा। जिसे लेकर सपा के प्रवक्ता व एमएलसी सुनील साजन समेत कई नेता मौके पर मौजूद रहे।

समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता सुनील साजन ने कहा कि अखिलेश यादव उन्नाव में निषाद समाज के बड़े नेता मनोहर लाल के कार्यक्रम में उपस्थित हो रहे हैं। सपा ने हमेशा से निषाद समाज का आदर सम्मान किया है। इस समुदाय के नेताओं को राजनीतिक स्थान भी दिया है। जबकि बीजेपी सिर्फ निषाद समुदाय के साथ होने का दिखावा करती है। यूपी में निषाद, मल्लाह और कश्यप वोट बैंक करीब 4 फीसदी है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव का यह दांव निषाद वोट बैंक की सियासत से जोड़ कर देखा जा रहा है।

मनोहर लाल के बड़े बेटे रामकुमार कहना है कि मनोहर लाल जी ने निषाद जातियों के बीच रोटी-बेटी का संबंध भी स्थापित किया था। उसके आगे की राजनीति की चर्चा करें तो साल 1994 में मनोहर लाल के निधन के बाद उन्नाव में उनके बेटे दीपक कुमार ने उनकी राजनीतिक विरासत को संभाला और दीपक कुमार सपा से कई बार विधायक और सांसद भी रहे। दीपक के निधन के बाद अब मनोहर लाल की विरासत मनोहर लाल के बड़े बेटे रामकुमार और उनके भतीजे अभिनव संभाल रहे हैं।





Rajesh Kumar
Next Story
Share it