Begin typing your search...

जानिए कौन हैं सुभावती शुक्ला, जिन्हें सपा ने चुनाव में उतारा है योगी आदित्यनाथ के सामने

जानिए कौन हैं सुभावती शुक्ला, जिन्हें सपा ने चुनाव में उतारा है योगी आदित्यनाथ के सामने
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

समाजवादी पार्टी (सपा) ने गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टेंशन बढ़ाने के लिए भगवा कैंप के ही पुराने योद्धा के परिवार को मैदान में उतार दिया है, सुभावती शुक्ला अपने बेटे के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हुई हैं...

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सियासी दांव-पेज जारी है| समाजवादी पार्टी ने आज अपनी एक और नई लिस्ट जारी कर दी है| इसमें उन्होंने योगी आदित्यनाथ के सामने लड़ने वाले प्रत्याशी की भी घोषणा की है| समाजवादी पार्टी (सपा) ने गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टेंशन बढ़ाने के लिए भगवा कैंप के ही पुराने योद्धा के परिवार को मैदान में उतार दिया है। सपा ने बीजेपी के पूर्व नेता उपेंद्र शुक्ला की पत्नी...

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सियासी दांव-पेज जारी है| समाजवादी पार्टी ने आज अपनी एक और नई लिस्ट जारी कर दी है| इसमें उन्होंने योगी आदित्यनाथ के सामने लड़ने वाले प्रत्याशी की भी घोषणा की है| समाजवादी पार्टी (सपा) ने गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टेंशन बढ़ाने के लिए भगवा कैंप के ही पुराने योद्धा के परिवार को मैदान में उतार दिया है। सपा ने बीजेपी के पूर्व नेता उपेंद्र शुक्ला की पत्नी सुभावती शुक्ला को टिकट दिया है। हाल ही में सुभावती शुक्ला अपने बेटे के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हुई हैं।

बता दें कि समाजवादी पार्टी ने बीजेपी के दिग्गज नेता रहे उपेंद्र शुक्ला की पत्नी को उतारकर एक तीर से कई निशाने साधने की कोशिश की है। एक तरफ 'ब्राह्मण कार्ड' खेलकर बीजेपी से ब्राह्मणों की कथित नाराजगी को भुनाने की कोशिश की गई है तो पार्टी को उम्मीद है कि 2020 में उपेंद्र शुक्ला की मौत हो जाने की वजह से उनके परिवार को सहानुभूति के नाम पर समर्थन मिल सकता है। सपा ने इससे पहले बीजेपी के मौजूदा विधायक डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल पर डोरे डाले थे, जिनका टिकट काटकर गोरखपुर शहर सीट योगी को उतारा गया है, लेकिन दाल नहीं गलने पर सुभावती पर भरोसा जताया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गोरखपुर में लंबे समय तक बीजेपी के नेता रहे उपेंद्र शुक्ला कभी योगी आदित्यनाथ के करीबी थे। 2017 में मुख्यमंत्री बनने के बाद जब योगी ने गोरखपुर सीट खाली की तो पार्टी ने उपेंद्र शुक्ला पर ही भरोसा जताया। तब समाजवादी पार्टी के उम्‍मीदवार रहे प्रवीण निषाद (निषाद पार्टी के अध्‍यक्ष संजय निषाद के पुत्र और वर्तमान में संतकबीरनगर से भाजपा के सांसद) ने उन्‍हें हरा दिया था। 2019 में भाजपा ने उपेन्‍द्र शुक्‍ला की जगह भोजपुरी फिल्‍म स्‍टार रविकिशन शुक्‍ल को मैदान में उतारा था। उनके परिवार का आरोप है कि लंबे समय तक उपेंद्र ने जिस पार्टी की सेवा की उसके नेता अब उनकी सुध नहीं ले रहे हैं।

वैसे तो भगवा का गढ़ रहे गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ की जीत आसान माना जा रही है, लेकिन समाजवादी पार्टी ने ब्राह्मण चेहरे को टिकट देकर लड़ाई को कुछ दिलचस्प बनाने की कोशिश की है। आजाद समाज पार्टी की ओर से चंद्रशेखर आजाद भी योगी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं तो बीएसपी ने पुराने कार्यकर्ता ख्वाजा शमसुद्दीन को सीएम के सामने चुनौती पेश करने को कहा है।

Sakshi
Next Story
Share it