Top
Begin typing your search...

मोदी कैबिनेट विस्तार : जाने कौन है, असली दावेदार...??

क्या है भाजपा और जेडीयू के बीच नया पेच ??

मोदी कैबिनेट विस्तार : जाने कौन है, असली दावेदार...??
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

किसे किसे हुआ, दिल्ली का न्यौता ??

मोदी मंत्रिमंडल विस्तार :

मोदी मंत्रिमंडल का पहला विस्तार शुरू हो चुका है. पहले इसके लिए मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण की तारीख 7 जुलाई निश्चित की गई थी. लेकिन ऐसे में बात न बन पाने के कारण यह तारीख और आगे जाएगी. मंत्रिमंडल में करीब 27 सीट हैं। बहरहाल सूत्रों के अनुसार, 20 नए चेहरों को मंत्रिमंडल विस्तार में जगह मिल सकती है. यूपी से भागीदारी बढ़ाए जाने की खबर आ रही है, लोजपा को भी शामिल किए जाने की खबर है, तो वही कर्नाटक से उमेश जाधव और एक लिंगायत की दावेदारी पेश की जा रही है. उमेश जाधव ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मलिकार्जुन खड़गे को हैरान किया था, इसको लेकर मोदी कैबिनेट के मध्य बातचीत जारी है. एलायंस से बातचीत होने पर ही स्पष्ट हो सकेगा कि किसे मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिलती है और कौन बाहर जाता है ? बताया जा रहा है कि, जेडीयू को लेकर दांव थोड़ा फंसा हुआ है. जेडीयू मंत्रिमंडल में 2 कैबिनेट और 2 MoS चाहती है.

  • क्या है भाजपा और जेडीयू के बीच नया पेच ??

नीतीश कुमार का मानना है कि, जातिगत समीकरणों से यदि 2 कैबिनेट को शामिल नहीं किया गया तो इससे पार्टी का माहौल बिगड़ सकता है और इसके लिए भाजपा जिम्मेदार होगी"

इतिहास ऐसे गठबंधन का गवाह रहा है, जब गठबंधन बनते बिगड़ते दिखाई दिए हैं. कांग्रेस इसकी सबसे बड़ी परिणीति रही है. कांग्रेस का इतिहास सरकार गिराने के लिए सबसे बड़ा गवाह है. महाराष्ट्र में गठबंधन का क्या हाल है? देखा जा सकता है. जेडीयू ने पिछली बार मंत्रिमंडल में भागीदारी न करने की वजह से नीतीश कुमार ने चिंता व्यक्त की थी ,निश्चित तौर पर भाजपा और जेडीयू को मिलकर कोई बीच का रास्ता चुनना होगा, जिससे किसी भी पार्टी के संबंध खराब ना हो। यदि दोनों पार्टियों में तकरारें आती हैं तो यह राष्ट्र की प्रमुख पार्टी के लिए एक बड़ी क्षति होगी.

  • मंत्रिमंडल के लिए अहम नाम

मंत्री मंडल में पद के लिए कुछ नाम वायरल हो रहे हैं, जिसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, जो पूर्व समय में राजस्थानी कांग्रेस के सीएम के बेटे सिंधिया राजे के परिवार से ताल्लुक रखते हैं और एक जानी-मानी हस्ती के तौर पर पहचाने जाते हैं.

सुशील कुमार मोदी - जो भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिज्ञ और बिहार के तीसरे उपमुख्यमंत्री पद पर रह चुके हैं। वे बिहार के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं और हाल में भारतीय जनता पार्टी की ओर से राज्यसभा सांसद भी हैं.

असम से पूर्व सीएम सर्बानंद सोनोवाल ,जो असम के 14 वें मुख्यमंत्री रहे. सर्बानंद सोनोवाल 2014 के चुनावों में, असम की लखीमपुर सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़कर निर्वाचित हुए थे। असम में भाजपा की सत्ता में वापसी के बावजूद उनकी जगह हेमंत बिस्व सरमा को सीएम बना दिया गया था, इसके बाद अटकलें लगाई जा रही है थी, कि उनको केंद्र में अहम पद मिल सकता है, सोनोवाल असम में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के 2016 से लेकर पिछले महीने तक मुख्यमंत्री थे। सोनोवाल को मंत्रिमंडल में जगह देने की जानकारी तब पता चली, जब 19 जून को उन्होनें बृहस्पतिवार रात को असम के राज्यपाल जगदीश मुखी द्वारा आयोजित डिनर में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी.

साथ ही मनोज तिवारी, भोजपुरी सुपरस्टार रवि किशन और राहुल कासवान जैसे नाम भी शामिल हैं. जम्मू कश्मीर, लद्दाख से सांसद और एक नामचीन चेहरा 34 वर्षीय जामयांग नामग्याल को मंत्रिमंडल में जगह देने की बात की जा रही है, मुझे याद है जब जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद-370 और 35(A) अधिनियम को हटाया गया था, तो उस समय इन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

शिव प्रताप शुक्ला जो बीजेपी के दिग्गज नेता माने जाते हैं पिछले वर्ष 2020 में पूर्व केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री और राज्यसभा सदस्य शिवप्रताप शुक्ल को भाजपा हाइकमान ने नई जिम्मेदारी दी थी. उसके बाद उन्हें राज्यसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक चीफ व्हिप रूप में नियुक्त किया गया था।

हिना गावित , जो महाराष्ट्र के नन्दुरबार से निर्वाचित हुईं हैं इन्हे भी इस बार मौका दिया जा सकता है। आखरी नाम है , सुनीता दुग्गल जो हरियाणा के सिरसा से 2019 में पहली बार सांसद बनी थी.

जैसा कि 8 जुलाई को मंत्रिमंडल विस्तार होने की खबर है तो इस लिस्ट में कई नाम और शामिल हो सकते हैं।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it