Top
Begin typing your search...

सोनिया गांधी का बड़ा हमला, 'कोरोना सिस्टम फेल नहीं हुआ है, विफल रही है मोदी सरकार'

मोदी सरकार की उदासीनता और अक्षमता के कारण राष्ट्र डूब रहा है..

सोनिया गांधी का बड़ा हमला, कोरोना सिस्टम फेल नहीं हुआ है, विफल रही है मोदी सरकार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : देश की मौजूदा कोविड -19 महामारी की स्थिति के बीच, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को कहा कि प्रणाली विफल नहीं हुई है क्योंकि भारत के पास कई ताकत और संसाधन हैं। सोनिया गांधी ने वर्चुअल कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में कहा कि मोदी सरकार उन संसाधनों को रचनात्मक रूप से प्रसारित करने में विफल रही है। चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में हाल ही में आए चुनावों के परिणामों पर सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति चुनाव परिणाम का विश्लेषण करेगी।

मनमोहन सिंह, राहुल गांधी द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे गए पत्रों का जिक्र करते हुए, पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि ऐसा लगता है कि ये सभी उपयोगी पहल बहरे कानों पर गिरी हैं क्योंकि सरकार ने उन पर कोई सार्थक प्रतिक्रिया नहीं दी है। वो कहती हैं, यह "सरकार बनाम हम" की लड़ाई नहीं है, बल्कि "हम बनाम कोरोना" के बीच की लड़ाई है, सोनिया ने कहा कि कांग्रेस स्थायी समितियों की बैठकों की मांग करती है। इस संकट से निपटने में सक्षम, शांत और दूरदर्शी नेतृत्व की आवश्यकता होती है।

मोदी सरकार की उदासीनता और अक्षमता के कारण राष्ट्र डूब रहा है। सोनिया गांधी ने कहा कि यह हमारे लिए खुद को इकट्ठा करने और अपने लोगों की सेवा में फिर से समर्पित करने का समय है। सोनिया ने सरकार की "त्रुटिपूर्ण" वैक्सीन नीति के लिए शासन के बारे में कहा कि बजट 2021 में "सभी के लिए नि: शुल्क टीके" के लिए 35,000 करोड़ रुपये आवंटित करने के बावजूद, मोदी सरकार ने तीसरे चरण में टीकों की खरीद के लिए राज्य सरकारों को भारी दबाव में रखा।

सोनिया ने कहा, "मोदी सरकार की असमान टीकाकरण नीति लाखों दलितों, आदिवासियों, अन्य पिछड़े वर्गों, के साथ-साथ गरीबों और हाशिए पर रहने वालों को बाहर कर देगी। मोदी सरकार को नैतिक दायित्व और लोगों के प्रति अपने शपथ कर्तव्य को देखकर यह बहुत चौंकाने वाला है।"

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it