Top
Begin typing your search...

आज युवा भारत के सबसे अधिक स्वप्नदृष्ट प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सहादत को तीस साल हो गए

आज ही खबर आ रही है कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन ने राजीव गांधी की ह्त्या में शामिल लोगों को उनकी सजा पूरी हो जाने के बाद रिहाई के लिए केन्द्र को पत्र लिखा है ,

आज युवा भारत के सबसे अधिक स्वप्नदृष्ट प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सहादत को तीस साल हो गए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पंकज चतुर्वेदी

आज युवा भारत के सबसे अधिक स्वप्नदृष्ट प्रधानमंत्री की सहादत को तीस साल हो गए , आज ही खबर आ रही है कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन ने राजीव गांधी की ह्त्या में शामिल लोगों को उनकी सजा पूरी हो जाने के बाद रिहाई के लिए केन्द्र को पत्र लिखा है , कुछ लोग इस पर सियासत कर रहे हैं लेकिन वे याद करें इसी साल २१ फरवरी को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने को कहा था कि 1991 में अपने पिता राजीव गांधी की हत्या से उन्हें काफी दुख हुआ था लेकिन इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के प्रति उनके मन में कोई नफरत या गुस्सा नहीं है। राहुल पुदुचेरी के एक राजकीय महिला महाविद्यालय की छात्राओं के साथ बातचीत कर रहे थे। उसी क्रम में एक विद्यार्थी ने उनसे सवाल किया, ''लिट्टे (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम) ने आपके पिता की जान ले ली थी, इन लोगों के बारे में आपकी क्या भावनाएं हैं? इसके जवाब में राहुल ने कहा कि हिंसा आपसे कुछ छीन नही सकती।


राहुल गांधी ने कहा, "मुझे किसी के प्रति गुस्सा या नफरत नहीं है। निश्चित रूप से, मैंने अपने पिता को खो दिया और वह मेरे लिए बहुत मुश्किल समय था। उन्होंने कहा कि यह किसी के दिल को अलग करने जैसा था।'' तालियों की गड़गड़ाहट के बीच उन्होंने कहा, "मुझे काफी दुख हुआ, लेकिन मुझे क्रोध नहीं है। मुझे कोई नफरत या क्रोध नहीं है। मैंने माफ कर दिया।"

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने एक अन्य सवाल के जव़ाब में कहा, ''हिंसा आपसे कुछ नहीं छीन सकती... मेरे पिता मुझमें जीवित हैं... मेरे पिता मेरे जरिए बात कर रहे हैं।" गांधी ने मछुआरा समुदाय के लोगों के साथ संवाद करने के बाद भारतीदासन राजकीय महिला महाविद्यालय की छात्राओं के साथ बातचीत की।

इससे पहले प्रियंका भी यही कर चुकी हैं .

लेख शायद लंबा लगे लेकिन इक प्रधानमंत्री की ह्त्या , देश को पंचाह्यती राज, महिला आरक्षण, कम्प्युटर सहित कई सौगात देने वाले प्रधान मंत्री के लिए समय निकालना आपके लिए उर्जावान ही रहेगा.


अपने पिता और देश के सपनों की हत्या करने वाले की सजा ए मौत को माफ़ करवाने वाले बच्चे. प्रियंका- नलिनी और आंसू

2010 में एनडीटीवी से बात करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा था कि सालों तक वे अपने पिता की हत्या के सदमे को सहती रहीं. उनके भीतर जमा गुस्से और अंतर्विरोध से उनका संघर्ष चलता रहा , उन्होंने कहा था कि 'शुरुआती वर्षों में मेरे अंदर बहुत अधिक गुस्सा भरा था. मेरा गुस्सा किसी खास व्यक्ति के लिए नहीं था, जिसने मेरे पिता की हत्या की थी. मैं पूरी दुनिया से गुस्सा थी.'

प्रियंका से सवाल किया गया कि जब आपके भीतर इतना गुस्सा था तो आपने हत्यारों को माफ कैसे किया? इस पर प्रियंका बोलीं- ये बहुत धीरे-धीरे हुआ. आपको पता होता है कि आप गुस्सा हो. मेरे विचार से किसी को माफ कर देने का ख्याल खुद को पीड़ित महसूस करने से जुड़ा है. अगर आपके साथ कोई बुरा करता है तो आप पीड़ित महसूस करते हो. जिसे आप सबसे ज्यादा प्यार करते हो, उसे अगर कोई जान से मार दे तो ये बहुत बड़ी बात हो जाती है. तब हम खुद को ज्यादा पीड़ित महसूस करते हैं. लेकिन जिस वक्त आपको ये अहसास होगा कि सिर्फ आप ही पीड़ित नहीं हो बल्कि दूसरा व्यक्ति भी परिस्थितिवश आपकी ही तरह पीड़ित है, तो आप उस स्थिति में पहुंच जाते हो कि आप किसी को भी माफ कर दो. क्योंकि आपका पीड़ित होने का दर्द गायब हो जाता है.'


शुरुआती वर्षों में प्रियंका गांधी अपने पिता की हत्या की जांच के लिए बनी जेएस वर्मा कमिटी के काम-काज में खासी दिलचस्पी लेती थीं. कमिटी की बातों को गौर से सुनती और नोट्स बनाती. राजीव गांधी हत्याकांड में साजिश की जांच करने वाली एमसी जैन कमिशन की बैठकों में भी प्रियंका गांधी जाया करती थीं. प्रियंका इस हत्याकांड मे लिट्टे के रोल को ज्यादा से ज्यादा समझना चाहती थी.

जब गांधी परिवार ने नलिनी को माफ करने का फैसला किया

साल 1999 में गांधी परिवार ने राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी नलिनी को माफ करने का फैसला किया. 18 नवंबर 1999 को सोनिया गांधी ने तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन को बुलाकर कहा कि वो और उनके बच्चे नलिनी को माफ किए जाने की अपील करती हैं. केआर नारायणन उनकी बात सुनकर सन्न रह गए. ये वो वक्त था, जब नलिनी के परिवार ने सारी उम्मीदें छोड़ दी थीं. वेल्लोर जेल में नलिनी को फांसी दिए जाने की तैयारी चल रही थी. के आर नारायण को दया याचिका के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी थी, क्योंकि सोनिया गांधी इस बात को मीडिया में नहीं आने देना चाहती थीं.

कहा जाता है कि कि उस वक्त राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष मोहिनी गिरी की वजह ये बात बाहर आ गई. सोनिया गांधी ने उनसे केआर नारायणन से मुलाकात की बात कही थी. मोहिनी गिरी ने सोनिया गांधी को नलिनी की दया याचिका पर चर्चा के लिए बुलाया था. बात को दबाए रखने के लिए मोहिनी गिरी के एनजीओ गिल्ड ऑफ सर्विस, जिसका आफिस क़ुतुब सांस्थानिक क्षेत्र में हैं , ने नलिनी की दया याचिका लगाई थी. इस एनजीओ से खुद तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन जुड़े थे.नलिनी को माफ करने के मुद्दे पर 10 जनपथ में कई बार सोनिया गांधी, प्रियंका और राहुल गांधी के बीच बातचीत हुई. जून 1991 में जिस वक्त नलिनी को गिरफ्तार किया गया था, उसके कुछ दिनों पहले ही उसने मुरुगन से शादी की थी. 1992 में नलिनी ने वेल्लोर जेल में ही एक बेटी को जन्म दिया. 1999 में जिस वक्त नलिनी को फांसी देने की तैयारी चल रही थी, उसकी बेटी 7 साल की हो चुकी थी.

श्रीमती सोनिया गांधी के घर पर नलिनी के मुद्दे पर चर्चा के दौरान प्रियंका का कहना था कि कोई भी कार्रवाई की वजह से किसी बच्चे को अनाथ नहीं होना चाहिए. राहुल की भी इस पर सहमति थी. दोनों ने ही अपने पिता को खोया था और अनाथ होने का दर्द समझ रहे थे. गांधी परिवार इस नतीजे पर पहुंचा कि अगर नलिनी को फांसी हो भी गई तो परिवार को किसी तरह का सुकून हासिल नहीं होगा.

जब नलिनी से मिलीं और फूट-फूट कर रोने लगीं प्रियंका

इस घटना के कोई दस साल बाद 19 मार्च 2008 को प्रियंका गांधी ने वेल्लोर जेल जाकर नलिनी से मुलाकात भी की थी. एनडीटीवी से बात करते हुए प्रियंका गांधी ने इस मुलाकात के बारे में कहा था कि ' मैं जब उससे मिली तो मुझे महसूस हुआ कि अब मैं उससे गुस्सा नहीं हूं. मेरे भीतर नफरत भी नहीं थी. मैं अब भी सोच रही थी कि उसने जो किया, मैं उसे माफ कर सकती हूं. वो मेरे लिए सबसे बड़ा सबक था. मुझे लगा कि ये भी औरत है और इसने भी सहा है, भले ही मेरे इतना ना सही.' जेल में नलिनी मुरुगन ने एक किताब लिखी थी- Rajiv Gandhi: Hidden Truths and Priyanka-Nalini Meeting. 2016 में आई इस किताब में नलिनी ने प्रियंका गांधी से मुलाकात के बारे में लिखा था. नलिनी ने लिखा था कि प्रियंका गांधी फूट-फूट कर रो रही थी. उन्होंने मुझसे पूछा- 'तुमने ऐसा क्यों किया? मेरे पिता एक अच्छे इंसान थे, एक नरमदिल इंसान. अगर तुम्हें कोई समस्या थी तो तुम उनके साथ बात करके सुलझा सकती थी.'

किताब में नलिनी ने लिखा था कि उसे बिल्कुल उम्मीद नहीं थी कि प्रियंका गांधी इस तरह से रोने लगेंगी.

चित्र -- मोहिनी गिरी , प्रियंका - राजीव जी , सोनिया जी और राहुल , नलिनी जिसकी फांसी माफ़ करवाई

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it