Begin typing your search...

Patiala Violence: पटियाला में हिंसक झड़प पर सीएम भगवंत मान का आया बड़ा बयान

पंजाब के पटियाला में जुलूस निकालने पर दो समुदायों के बीच हिंसक झड़प हो गई।

Patiala Violence: पटियाला में हिंसक झड़प पर सीएम भगवंत मान का आया बड़ा बयान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Patiala Violence: पंजाब के पटियाला में जुलूस निकालने पर दो समुदायों के बीच हिंसक झड़प हो गई। इस दौरान पुलिस पर भी पथराव हुआ. मिली जानकारी के अनुसार शिवसेना के मार्च को लेकर तनाव हुआ था। जुलूस में खलिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए गए. इस घटना में पुलिस के कई जवान घायल हुए हैं।

हिंसक झड़प पर सीएम भगवंत मान ने ट्वीट किया है। सीएम भगवंत मान ने पटियाला में झड़प की घटना दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। मान ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि डीजीपी से बात की गई है और इलाके में शांति बहाल कर दी गई है। कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों को गोलियां चलानी पड़ीं और आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पटियाला के काली देवी मंदिर के पास आज दो गुटों में झड़प हो गई। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में खालिस्तान समर्थक समर्थकों ने तलवारें लहराईं और शिवसेना कार्यकर्ताओं पर पथराव किया।

डीएसपी ने कहा, ''यहां कानून व्यवस्था की समस्या को देखते हुए पुलिस को तैनात किया गया है। हम शिवसेना प्रमुख हरीश सिंगला से बात कर रहे हैं क्योंकि उनके पास मार्च की अनुमति नहीं है।''

पंजाब की शांति और सद्भाव अत्यंत महत्वपूर्ण: मान

हिंसा पर प्रतिक्रिया देते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने ट्वीट किया, ''मैंने डीजीपी से बात की, इलाके में शांति बहाल कर दी गई है। हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और किसी को भी राज्य में अशांति पैदा नहीं करने देंगे। पंजाब की शांति और सद्भाव अत्यंत महत्वपूर्ण है।''

आप और पंजाब सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता गौरव बल्लभ ने अरविंद केजरीवाल को व्यस्त व्यक्ति बताया। उन्होंने कहा, ''भगवंत मान ने दिल्ली के सीएम से निर्देश नहीं मांगे, यही वजह है कि पंजाब कानून-व्यवस्था की समस्या का सामना कर रहा है। यह कुशासन का मॉडल है।"

खालिस्तानी आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू द्वारा आज हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में डीसी कार्यालयों पर झंडे लगाने का फरमान जारी करने के बाद शिवसेना ने विरोध मार्च निकालने का फैसला किया था। 29 अप्रैल खालिस्तान स्थापना दिवस है।

इसका जवाब देते हुए शिवसेना के पंजाब के कार्यकारी अध्यक्ष हरीश सिंगला ने घोषणा की कि उनका संगठन 29 अप्रैल को पटियाला में खालिस्तान विरोधी मार्च निकालेगा। उन्होंने आगे कहा कि कुछ खालिस्तानी भारत को तोड़ने की साजिश कर रहे हैं और पंजाब के हिंदुओं और सिखों के बीच फूट पैदा करना चाहते हैं।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it