Top
Begin typing your search...

हेमाराम चौधरी के इस्तीफे से आलाकमान खफा : नही माने तो हो सकता है उनका इस्तीफा मंजूर

मुख्यमंत्री खेमे के कुछ लोगो के अलावा अन्य वरिष्ठ नेता भी उन्हें मनाने में लगे हुए है?

हेमाराम चौधरी के इस्तीफे से आलाकमान खफा : नही माने तो हो सकता है उनका इस्तीफा मंजूर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सचिन पायलट गुट के असन्तुष्ट विधायक हेमाराम चौधरी के इस्तीफे से कांग्रेस आलाकमान काफी खफा है । आलाकमान का मानना है कि कोरोना तथा अन्य कई प्रकार की विपदाओं के बीच हेमाराम द्वारा दिया गया इस्तीफा पूर्णतया अव्यवहारिक और बचकानी हरकत है । उनको सरकार या मुख्यमंत्री के कामकाज के प्रति नाराजगी थी तो बातचीत के जरिये उसे निपटाया जा सकता था । इस्तीफा देकर उन्होंने नासमझी का परिचय दिया है ।

ज्ञात हुआ है कि मुख्यमंत्री खेमे के कुछ लोगो के अलावा अन्य वरिष्ठ नेता भी उन्हें मनाने में लगे हुए है । उम्मीद है कि देर रात तक वे अपना इस्तीफा वापिस ले लेंगे । कुछ कार्यो को लेकर उनकी मुख्यमंत्री तथा मंत्रिमंडल के कुछ सदस्यों से गहरी नाराजगी है जिसके चलते हुए उन्होंने इस्तीफा दिया । हेमाराम इस्तीफे के कारणों का शाम 6 बजे मीडिया के सामने खुलासा करने वाले थे । इसलिए उनकी ओर से मीडिया को आमंत्रित भी कर लिया गया था । लेकिन बाद में उन्होंने मीडिया को कुछ भी बताने से इनकार कर दिया ।

जानकारी मिली है कि हेमाराम चौधरी से राजस्थान के प्रभारी अजय माकन की ओर से भी कोई बातचीत नही की गई है । अगर बात नही सम्भली तो कमान अजय माकन खुद अपने हाथ मे ले सकते है । फिलहाल उन्होंने इस एपिसोड से दूरी बना रखी है ।

यह भी ज्ञात हुआ है कि हेमाराम चौधरी आसानी से नही मानते है तो उनका इस्तीफा भी स्वीकार किया जा सकता है ताकि अन्य असंतुष्टों को सबक मिल सके । आलाकमान का मानना है कि इस्तीफे के पीछे दबाव और ब्लैकमेल की राजनीति है । यदि हेमाराम की गैर वाजिब मांगो को स्वीकार कर लिया तो अन्य विधायक भी इसी तर्ज पर मुख्यमंत्री को ब्लैकमेल करते रहेंगे ।


महेश झालानी
Next Story
Share it