Top
Begin typing your search...

जनता की आवाज बनकर जनता के साथ खडे है महेश जोशी

राजस्थान प्रदेश में जनता की आवाज बनकर उभर रहे महेश जोशी

जनता की आवाज बनकर जनता के साथ खडे है महेश जोशी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ईश्वर की बनाई इस दुनिया में ईश्वर की बनाई सभी रचनाओं में सबसे कीमती सर्वश्रेष्ठ कृति मानव है।मानव ईश्वर की बनाई रचना में सर्वश्रेष्ठ और नायक इस ब्रह्मांड में क्यों है इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण मनुष्य के बोलने की क्षमता है।सम्पूर्ण कायनात मे केवल मनुष्य ही ईश्वर की ऐसी कृति है जो देखकर छूकर सोच समझ कर अपनी बात को कह सकता है वरना तो सम्पूर्ण कायनात मे मौन पसरा हुआ है।लोकतंत्र में लोकसभा विधानसभा से लेकर ग्राम पंचायत में जो जन प्रतिनिधि चुनाव जीतकर आते हैं उसके पीछे का तर्क यही है कि सभी जन प्रतिनिधि अपने अपने क्षेत्र की समस्याओं को देश प्रदेश नगर गांव की पंचायतों में उचित ढंग से रखकर अपने अपने क्षेत्र की जनता की समस्याओं का समाधान कर सके। बडी समस्या आज हमारे देश में यह है कि वर्तमान राजनीतिक परिवेश में धर्म जाती छदम देश भक्ति गाय गोबर गोमुत्र हिन्दू मुसलमान के नाम पर जनता की वास्तविक समस्याओं से भागने का रास्ता देश के नेताओं ने अपना रखा है। चाणक्य के अनुसार एक राजा का महत्व उस समय तक होता है जब तक राजा के शासन की नीतियां पृजा के हित में हो। भावनाओं के अतिरेक मे फंसा कर जनता की मतिभ्रम करने वाले नेताओं के द्वारा आज समाज में घृणा नफरत हिसां का वातावरण फैलाया जा रहा है।

राजनीति में फेले अंधियारे मे राजस्थान की राजधानी जयपुर के हवामहल क्षेत्र के विधायक बने महेश जोशी के द्वारा आज स्वस्थ मुल्यों की राजनीति करना राजधानी में सुखद वातावरण तैयार कर रहा है और इस की सुगंध से समाज भी आनन्दित हो रहा है। जनता के हितो का सजग प्रहरी बनकर जनता की आवाज बनने का हुनर नेता को जनता के करीब ले जाता है। डा.महेश जोशी के द्वारा राजधानी में विकास के नये सोपान गढने के कारण जोशी को यह उपलब्धि हासिल है।भारत की राजनीति में परिवर्तन के वाहक बने स्वर्गीय कांशीराम जयप्रकाश नारायण लालू यादव के चरित्र में आम आदमी के सोचने समझने के धरातल के स्तर के समीप वार्ता लाप करने की विशेषता रही है। ये नेतागण सदैव आम आदमी के पहनावे सोचने समझने के धरातल के समीप अपने आप को रखकर लोगों से मिलते थे।इसी कारण वश सदैव आम आदमी अपना अक्स इन नेताओं के भीतर पाकर इनको अपना नेता सहर्ष स्वीकार करता था। महेश जोशी के चरित्र मे भी इसी प्रकार की खूबियां पाई जाती हैं।

आम आदमी की भाषा में उसके बोध्दिक स्तर के अनुरूप समस्याओं को सुनना और उनका यथा संभव तुरतं निदान करने के कारण आम जनता मे इनकी छवि मजबूत बन गई है। आज की राजनीति में केंद्र सरकार से लेकर राज्य की राजधानी में ही नेतागण समस्या समाधान करने के बजाय पुरानी समस्या मे उलझी हुई जनता को नयी समस्या मे उलझाने मतिभ्रम करने को ही राजनीति समझ बेठे है। उदाहरण स्वरूप आतंकवाद कालाधन का उपाय नोटबंदी से तीन तलाक तक, बिगडी अर्थव्यवस्था बेरोजगारी मंहगाई किसानों की आत्महत्याका हल केंद्र की भाजपा सरकार सी.ऐ. ऐ. एन. आर. सी. मे देश की जनता को उलझा कर ढूंढ रही है देश की जनता की वास्तविक समस्याओं के हल करने के बजाय भारत सरकार समस्याओं से दूर भागने और पलायन करने का निरलज्ज पृयास करने की ओर भाग रही है। धर्म के अफीम का रस्वादन करने वाले भाजपा के अंधभक्त इस प्रकार की पतित राजनीति को ही विकास मानकर शतुरमुर्ग बन रहे हैं।


समाज हित में जाती धर्मगाय माता भारत माता की भावनात्मक राजनीति करने वाले नेताओं के आचरण के मुल्यांकन करने पर जनता सिर्फ छलावे खूबसूरत धोखे मिलते हैं।हर बार एक नये नारे नये वादे के बल पर जुमलो की राजनीति सिर्फ मुहावरे गढने के कामों तक सिमटकर रह जाती है।नेता और जनता के बीच आपसी विश्वास और सदभाव का सेतू इस प्रकार की राजनीति से कदापि नहीं बनाया जा सकता। अनततः भुगतना देश की जनता को ही पडता है आज सम्पूर्ण भारत वर्ष में जनता का विश्वास नेताओं की नीयत और उनके झूठे वादो से उठ रहा है। इसी का परिणाम है कि जनता सडको पर है और रामराज का सपना दिखाने वाले दिग्भ्रमित साधू फकीरों के शासन में पुलिस का निरंकुश डंडा जनता जनार्दन का ही मान मर्दन कर रहा है।

हाल ही में जयपुर मे केन्द्र सरकार के विवादास्पद संविधान विरोधी सी.ऐ.ऐ. कानून के विरोध में जयपुर के करबला मैदान मे लाखों लोगों की भीड को एकत्रित करनेवाले विभिन्न संगठनों के आयोजकों ने महेश जोशी बात को सहर्ष मानकर अपने विरोध पृदर्शन को राज्य के मुख्यमंत्री के पैदल विरोध मार्च में समाहित कर लिया था। महेश जोशी के व्यापक समाज हित के कार्यों के बल पर जयपुर की जनता के सभी वर्गों में उनका बडा जनाधार कायम है। यह जनाधार वर्षों की अथक मेहनत और साफ नीयत ईमानदारी से कार्य करने के प्रतिफल के रुप में अर्जित वह धन है जो किसी भी दूसरे नेता के लिए ईर्ष्या का विषय हो सकता है। कुछ तो बात है जो जयपुर की जनता के दिलो मे महेश जोशी प्यार सम्मान और प्रेम के सोते जगा देता है। चाहे कांग्रेस की दिल्ली की संविधान बचाओ रेली हो या फिर मुख्यमंत्री का जयपुर में पैदल मार्च हो हर जगह जनता की भावनाओं का प्रतिबिम्ब बने महेश जोशी हर बार भारी भीड के साथ कार्यकर्ता बने सबसे अलग नजर आते हैं। अपने मतदाताओं के अलावा भी सम्पूर्ण पृदेश के लोगों मे जोशी का स्थान सतत कर्मशील कर्मयोगी की छवि लिए है।राजनीति में लोगों का अटूट विश्वास का सम्बंध ही एक नेता को जनता से जोडने का काम करता है।जयपुर शहर में महेश जोशी के राजनेतिक जीवन की सबसे बडी अर्जित पूंजी जनता का उनके प्रति विश्वास है जो समय के साथ बढता जा रहा है।

मोहम्मद हफीज ब्यूरो चीफ: राजस्थान

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it