Top
Begin typing your search...

3 महीने की बच्ची से ये वादा करके ड्यूटी पर लौटे थे शहीद रोहिताश, जानकर नहीं थमेंगे आपके आंसू

शहीद की बेटी अभी इतनी छोटी है कि अपने पिता के चेहरे को भी नहीं पहचान पाई थी और उससे पहले ही उसके सिर से पिता का साया छूट गया?

3 महीने की बच्ची से ये वादा करके ड्यूटी पर लौटे थे शहीद रोहिताश, जानकर नहीं थमेंगे आपके आंसू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जयपुर : गुरूवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले में 42 जवान शहीद हो गए. सीआरपीएफ (CRPF) का काफिला जम्मू से कश्मीर की ओर जा रहा था. काफिले में करीब 70 गाडियां थीं, जिनमें 2500 से भी ज्यादा जवान मौजूद थे. आतंकियों ने जिस बस को निशाना बनाया, उसमें 40 से भी ज्यादा जवान सवार थे. आतंकियों ने IED से लदे वाहन को सीआरपीएफ की बस से भिड़ा दिया, जिससे हुए धमाके में हमारे जवानों के शव क्षत-विक्षत होकर सड़कों पर फैल गए. धमाके के बाद आतंकियों ने काफिले पर गोलीबारी भी की थी.

कायरों के इस हमले में राजस्थान के कई जवानों ने देश के लिए शहादत दे दिया. इनमें शाहपुर, जयपुर के रोहिताश लांबा भी शामिल हैं. शहीद के एक दोस्त (राज- बदला हुआ नाम) ने बताया कि रोहिताश उनका जिगरी दोस्त था. शहीद के दोस्त ने बताया कि रोहिताश की पत्नी ने तीन महीने पहले ही एक बेटी को जन्म दिया था. करीब एक साल पहले ही शादी के बंधन में रोहिताश की शहादत सुन उनके घर में ही नहीं बल्कि पूरे गांव में शोक का माहौल है. शहीद के दोस्त ने बताया कि ड्यूटी पर लौटने से पहले रोहिताश ने अपनी बेटी, परिवार और दोस्तों से कहा था कि वे होली के मौके पर लौटेंगे.

शहीद रोहताश के दोस्त ने उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें शहीद की बच्ची को लेकर काफी दुख हो रहा है. उन्होंने बताया कि शहीद की बेटी अभी इतनी छोटी है कि अपने पिता के चेहरे को भी नहीं पहचान पाई थी और उससे पहले ही उसके सिर से पिता का साया छूट गया. शहीद के दोस्त ने उनकी बेटी की एक तस्वीर भी शेयर की है. बच्ची की तस्वीर उस वक्त की है जब वह केवल दो दिन की थी. बता दें कि पुलवामा के अवंतीपुरा में हुए इस हमले को लेकर पूरा देश एकजुट हो गया है. लोगों में जबरदस्त क्रोध और आक्रोश है. जगह-जगह शहीदों के लिए कैंडल मार्च निकाला जा रहा है.

आंतकवादी हमले में शहीद हुए CRPF जवानों की लिस्ट-

1. जयमाल सिंह- 76 बटालियन

2. नसीर अहमद- 76 बटालियन

3. सुखविंदर सिंह- 76 बटालियन

4. रोहिताश लांबा- 76 बटालियन

5. तिकल राज- 76 बटालियन

6. भागीरथ सिंह- 45 बटालियन

7. बीरेंद्र सिंह- 45 बटालियन

8. अवधेष कुमार यादव- 45 बटालियन

9. नितिन सिंह राठौर- 3 बटालियन

10. रतन कुमार ठाकुर- 45 बटालियन

11. सुरेंद्र यादव- 45 बटालियन

12. संजय कुमार सिंह- 176 बटालियन

13. रामवकील- 176 बटालियन

14. धरमचंद्रा- 176 बटालियन

15. बेलकर ठाका- 176 बटालियन

16. श्याम बाबू- 115 बटालियन

17. अजीत कुमार आजाद- 115 बटालियन

18. प्रदीप सिंह- 115 बटालियन

19. संजय राजपूत- 115 बटालियन

20. कौशल कुमार रावत- 115 बटालियन

21. जीत राम- 92 बटालियन

22. अमित कुमार- 92 बटालियन

23. विजय कुमार मौर्य- 92 बटालियन

24. कुलविंदर सिंह- 92 बटालियन

25. विजय सोरंग- 82 बटालियन

26. वसंत कुमार वीवी- 82 बटालियन

27. गुरु एच- 82 बटालियन

28. सुभम अनिरंग जी- 82 बटालियन

29. अमर कुमार- 75 बटालियन

30. अजय कुमार- 75 बटालियन

31. मनिंदर सिंह- 75 बटालियन

32. रमेश यादव- 61 बटालियन

33. परशाना कुमार साहू- 61 बटालियन

34. हेम राज मीना- 61 बटालियन

35. बबला शंत्रा- 35 बटालियन

36. अश्वनी कुमार कोची- 35 बटालियन

37. प्रदीप कुमार- 21 बटालियन

38. सुधीर कुमार बंशल- 21 बटालियन

39. रविंदर सिंह- 98 बटालियन

40. एम बाशुमातारे- 98 बटालियन

41. महेश कुमार- 118 बटालियन

42. एलएल गुलजार- 118 बटालियन

Special Coverage News
Next Story
Share it