Top
Begin typing your search...

महारैलीकी सफलता से सोनिया बेहद प्रसन्न, अशोक गहलोत व अजय माकन को दी बधाई

महारैलीकी सफलता से सोनिया बेहद प्रसन्न, अशोक गहलोत व अजय माकन को दी बधाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महेश झालानी

महंगाई के मुद्दे पर सफल महारैली आयोजित कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने न केवल सोनिया गांधी को गदगद कर दिया बल्कि राहुल और प्रियंका भी बेहद खुश नजर आए । यह महारैली गहलोत के लिए एक बहुत बड़ी परीक्षा थी जिसमे वे सौ फीसदी अंको से सफल रहे ।

अभी तक बीजेपी यह मानकर चलती रही है कि भीड़ जुटाने में केवल नरेंद्र मोदी और अमित शाह ही सिद्धहस्त है । परंतु गहलोत ने यह साबित कर दिया कि वे मोदी और शाह से भी कई कदम आगे है । आज की महारैली के आगे पिछले दिनों अमित शाह का रोड़ शो भी फीका नजर आया ।

विरोधी दल द्वारा सत्ता पक्ष पर हमेशा यह आरोप लगाया जाता है कि भीड़ जुटाने के लिए सत्ता का दुरुपयोग किया गया । वर्तमान में सत्ता सदुपयोग के लिए नही, दुरुपयोग के लिए होती है । गैर कांग्रेसी राज्यों में अन्य पार्टियां निर्ममता से सत्ता का दुरुपयोग करती है । राजस्थान में गहलोत ने दुरुपयोग किया तो बुराई क्या है ? दूध का धुला आज कोई भी नही है ।

विश्वस्त सूत्रों से मिली खबरों के अनुसार सोनिया ने आज की सफल महारैली के लिए अशोक गहलोत की जमकर तारीफ की । सोनिया का इस महारैली में आने का कोई कार्यक्रम नही था । जब खुफिया सूत्रों से खबर मिली कि महारैली उम्मीद से ज्यादा सफल होने जा रही है तो उन्होंने इस रैली में शिरकत करने का कार्यक्रम बनाया । सोनिया के अलावा राहुल और प्रियंका ने भी गहलोत व अजय माकन को बधाई दी ।

इस महारैली को सफल बनाने में मुख्य भूमिका खुद मुख्यमंत्री गहलोत की है । लेकिन प्रभारी महासचिव अजय माकन की सक्रियता और रणनीति को भी नजरअंदाज नही किया जा सकता है । वे पिछले कई दिनों से महारैली को सफल बनाने के लिए जयपुर में डेरा डाले हुए थे । गहलोत के अलावा माकन के भी गांधी परिवार में काफी नम्बर बढ़ गए । हो सकता है कि आने वाले दिनों में अहमद पटेल वाली जिम्मेदारी माकन को सौप दी जाए ।

महारैली के इंतजाम के लिए अफसरों की बहुत बड़ी भूमिका रही है । पर्दे के सामने केवल सौरभ श्रीवास्तव, आनंद श्रीवास्तव और अजय लांबा भी नजर आए । लेकिन पर्दे के पीछे डीजीपी एमएल लाठर, डीजी (इंटेलिजेंस) उमेश मिश्रा, आईजी रूपेंद्र सिंह, रॉ तथा आईबी के अफसर व कर्मचारियों की सक्रिय योजनाबद्ध भूमिका को नजरअंदाज नही किया जा सकता है ।



Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it