Top
Begin typing your search...

कांग्रेस विधायक ने पीएम मोदी से की मांग, '500 और 2 हजार के नोटों से हटाई जाए गांधी की फोटो'

कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री भरत सिंह ने नोट से महात्मा गांधी की फोटो हटाने की मांग की है.

कांग्रेस विधायक ने पीएम मोदी से की मांग, 500 और 2 हजार के नोटों से हटाई जाए गांधी की फोटो
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

राजस्थान के सांगोद से कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री भरत सिंह ने नोट से महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की फोटो हटाने की मांग की है. भरत सिंह ने इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. उन्होंने पत्र में लिखा है कि महात्मा गांधी सत्य के प्रतीक हैं. भारतीय रिजर्व बैंक के 500 और 2000 के नोट पर गांधी जी का चित्र होता है. इन्हीं का उपयोग रिश्वत लेनदेन में होता है.

गांधी जी का सम्मान की जगह होता है अपमान

भरत सिंह ने पत्र में लिखा है कि 75 साल में देश और समाज में व्यापक भ्रष्टाचार फैल गया है. भ्रष्टाचार को रोकने के लिए राजस्थान में ACB विभाग है, जो अपना काम कर रहा है. राजस्थान में जनवरी 2019 से 31 दिसंबर 2020 तक 616 ट्रैप के प्रकरण दर्ज किए गए. यानी औसत 2 प्रकरण रोज ट्रैप किए गए हैं. ट्रैप करने में रिश्वत की राशि 500 और 2000 के नोट नगद उपयोग में लिए जाते हैं. इन पर गांधीजी की तस्वीर होती है. इस प्रकार गांधी जी का सम्मान के स्थान पर अपमान होता है.

छोटे नोटों पर ही हो गांधी जी की तस्वीर

भरत सिंह ने कहा कि गांधीजी की तस्वीर 5, 10, 20, 50, 100 और 200 के नोटों पर छापी जाए. यह नोट गरीबों के काम आते हैं. गांधी जी की तस्वीर वाले बड़े 500 और 2000 के नोटों का दुरुपयोग शराब पार्टी, बार और अन्य पार्टियों में नाचने गाने वालों पर न्यौछावर करके भी किया जाता है.

पांच महिला मनरेगा श्रमिकों से कराया भूमि पूजन

पूर्व मंत्री भरतसिंह अपनी ईमानदारी, साफगोई और अपनी पार्टी की सरकार के विरोध में खडे होकर बोलने की पहचान से जाने जाते हैं. साल 2015 में भरतसिंह ने ग्राम पंचायत का वार्ड पंच निर्वाचित होकर नेताओं और जनता को चौंका दिया था. इस बार भरतसिंह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती 2 अक्टूबर को बडा संदेश दिया था.

उन्होंने 27 करोड की लागत से बनने वाले हाईवेल ब्रिज का भूमि पूजन करवाया हैं. ये भूमि पूजन उन्होंने पांच महिला मनरेगा श्रमिकों से करवाया है. साथ ही शिलान्यास बोर्ड पर मनरेगा महिला श्रमिकों के नाम भी लिखवाए गए हैं.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it