Begin typing your search...

CWG 2022 : वेटलिफ्टर जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड मेडल, 19 की उम्र में बनाया रिकॉर्ड

जेरेमी ने खेलों में रिकॉर्ड वजन के साथ सोने पर कब्जा जमाया

CWG 2022 : वेटलिफ्टर जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड मेडल, 19 की उम्र में बनाया रिकॉर्ड
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

CWG 2022 Day 3 : बर्मिंघम में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games 2022) खेलों के आज तीसरे दिन भारत को 67 किग्रा ग्राम भार वर्ग में वेटलिफ्टर ललरिनुनगा जेरेमी ने एक और स्वर्ण पदक दिला दिया है. यह अभी तक भारत का प्रतियोगिता में दूसरा स्वर्ण और कुल मिलाकर पांचवां पदक है. जेरेमी ने खेलों में रिकॉर्ड वजन के साथ सोने पर कब्जा जमाया. उन्होंने स्नैच वर्ग में 140 और क्लींड एंड जर्क में 160 किग्रा भार को मिलाकर कुल 300 किलो वजन उठाया. दूसरे नंबर पर इकालने वैपावा नेवो रहे, जिन्होंने खेलों के इतिहास में रिकॉर्ड 292 किग्रा वजन के साथ रजत पदक पर कब्जा किया, तो नाइजीरिया के उमोआफिया एडिडियांग जोसेफ ने 290 किग्रा भारत के साथ कांस्य पदक जीता.

जेरेमी ने समोआ के वेइपावा नीवो इयोन 293 किग्रा (127 किग्रा और 166 किग्रा) और नाइजीरिया के इडिडियोंग जोसेफ उमोआफिया 290 किग्रा (130 किग्रा और 160 किग्रा) को पछाड़ा जिन्हें क्रमश: सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल मिला. आइजोल के 19 साल के जेरेमी ने कॉमनवेल्थ गेम्स का स्नैच (140 किग्रा) और कुल भार (300 किग्रा) का रिकॉर्ड अपने नाम किया. इस दौरान वह चोटिल होने से भी बचे क्योंकि क्लीन एवं जर्क के प्रयास के दौरान दो बार वह काफी दर्द में दिखे.

जेरेमी ने स्नैच में अपने दूसरे प्रयास में 140 किग्रा वजन उठाकर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी इडिडियोंग पर 10 किग्रा की बड़ी बढ़त बनाई. उन्होंने 136 किग्रा के प्रयास के साथ शुरुआत की थी.

जेरेमी ने अंतिम प्रयास में 143 किग्रा वजन उठाने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे.

क्लीन एवं जर्क में 2021 कॉमनवेल्थ गेम्स में विजेता जेरेमी ने 154 किग्रा वजन उठाकर शुरुआत की और अपने दूसरे प्रयास में 160 किग्रा वजन उठाया. वह अपने अंतिम प्रयास में 165 किग्रा वजन नहीं उठा सके. राष्ट्रीय स्तर के मुक्केबाज लालनेहतलुआंगा के बेटे जेरेमी ने मुक्केबाजी में भी हाथ आजमाए थे लेकिन वेटलिफ्टिंग से जुड़ गए क्योंकि इसमें सफल होने के लिए सिर्फ ताकत की जरूरत थी जिससे वह इसके प्रति आकर्षित हुए.

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it