Top
Begin typing your search...

राइफल शूटिंग में चार बार की गोल्ड मेडल विजेता,अब सरकार से मदद की लगा रही गुहार

कौशांबी की सिराथू तहसील के धुमाई गांव रहने वाली जागृति ने तीन साल पहले हुई प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था.उस वक्त सीएम योगी ने भी उन्हें सम्मानित किया था.

राइफल शूटिंग में चार बार की गोल्ड मेडल विजेता,अब सरकार से मदद की लगा रही गुहार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली:उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले की रहने वाली जागृति सिंह राइफल शूटिंग प्रतियोगिता में चार गोल्ड मेडल जीत चुकी है.अब आर्थिक तंगी के कारण सरकार के आगे मदद की गुहार लगा रही है. कौशांबी की सिराथू तहसील के धुमाई गांव रहने वाली जागृति ने तीन साल पहले हुई प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था.उस वक्त सीएम योगी ने भी उन्हें सम्मानित किया था.

आपको बता दे कि, जागृति को अब ओपन एयर गन की जरूरत है, लेकिन इसकी कीमत ज्यादा होने के कारण वो इसे खरीदने में सक्षम नहीं हैं. ओपन एयर गन की कीमत करीब चार लाख रुपये है. ऐसे में पैसों के अभाव में प्रतिभा दम तोड़ रही है.

जागृति और उसके परिजनों ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, सांसद विनोद सोनकर, स्थानीय विधायक शीतला प्रसाद पटेल से मिलकर ओपन एयर गन खरीदने में मदद की गुहार लगाई है, लेकिन उसे अभी तक निराशा के अलावा कुछ भी हाथ नहीं लगा. ऐसे में अब नेशनल खेलने की जागृति की उम्मीदें टूटने लगी है.

गौरतलब है कि, जागृति सिंह ने इसकी शुरुआत वर्ष 2016 में गोरखपुर से की थी.जागृति ने राज्य स्तर पर आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओं में वर्ष 2017, 2018 और वर्ष 2019 में भी गोल्ड मेडल जीते. साल 2019 में गोल्ड मेडल जीतकर वापस आने पर सिराथू में जागृति सिंह का भव्य स्वागत किया गया था.

जागृति सिंह धर्मा देवी इंटर कॉलेज की छात्रा रह चुकी हैं. कॉलेज के प्रधानाचार्य रामकिंकर त्रिपाठी ने जागृति की राइफल शूटिंग में काफी मदद की थी. इसके बावजूद अब राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए उसे तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.




RUDRA PRATAP DUBEY
Next Story
Share it