Top
Begin typing your search...

Tokyo Paralympics में भारत का डबल धमाल, बैडमिंटन में प्रमोद भगत ने जीता गोल्ड, मनोज सरकार को ब्रॉन्ज

प्रमोद भगत और मनोज सरकार दोनो ही SL3 कैटेगरी में खेलते हैं.

Tokyo Paralympics में भारत का डबल धमाल, बैडमिंटन में प्रमोद भगत ने जीता गोल्ड, मनोज सरकार को ब्रॉन्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

टोक्यो पैरालिंपिक (Tokyo Paralympic) में भारत को बैडमिंटन में प्रमोद भगत (Pramod Bhagat) ने पहला गोल्ड मेडल दिलाया. प्रमोद भगत ने पुरुष सिंगल्स के SL3 कैटेगरी के फाइनल में डैनियल ब्रेथेल को मात दी. वहीं इसी इवेंट का ब्रॉन्ज मेडल भारत के मनोज सरकार के नाम रहा. प्रमोद भगत ने 45 मिनट तक चले मुकाबले में डेनियल को 21-14, 21-17 से मात दी. वर्ल्ड नंबर वन खिलाड़ी प्रमोद भगत फाइनल में पहुंचने वाले पहले खिलाड़ी भी बने थे.

एसएल3 क्लास में उन खिलाड़ियों को हिस्सा लेने की अनुमति होती है जिनके पैर में विकार हो. पोलिया होने के कारण प्रमोद भगत का एक पैरा काम नहीं करता है. वर्ल्ड नंबर वन खिलाड़ी ने पिछले कई सालों में खुद को हर बड़े टूर्नामेंट में साबित किया था. उन्हें पहली बार पैरालिंपिक खेलों में हिस्सा लेने का मौका मिला था जिसका उन्होंने बखूबी फायदा उठाया.

दूसरे गेम में शानदार वापसी से जीता मैच

फाइनल में प्रमोद कुमार का सामना 25 साल के डैनियल ब्रेथेल से था. दोनों के बीच पहले गेम में अच्छा मुकाबला देखने को मिला. पहले गेम में डैनियल ने शुरुआत में बढ़त लेने की कोशिश की लेकिन प्रमोद ने अच्छी वापसी के साथ पहला गेम 21-14 से अपने नाम किया. यह गेम 21 मिनट तक चला. इसके अगले में डैनियल ने शुरुआत में लंबी लीड बना ली थी. एक समय पर प्रमोद 4-12 से पिछड़ रहे थे. लेकिन उन्होंने शानदार वापसी की और दूसरा गेम 21-17 से अपने नाम किया.

मनोज सरकार ने जीता ब्रॉन्ज

वहीं दूसरी ओर इसी इवेंट के ब्रॉन्ज मेडल मैच में मनोज सरकार ने जापान के फुजीहारा को मात दी. को मनोज सरकार का सामना जापान के फुजिहारा डेसुके से था. फुजिहारा को सेमीफाइनल में प्रमोद भगत ने मात दी थी. मनोज सरकार पहले गेम में पिछड़ रहे थे लेकिन फिर उन्होंने जबरदस्त वापसी की और 27 मिनट तक चले इस रोमांच गेम को 22-20 से अपने नाम किया. वहीं दूसरा गेम उन्होंने महज 19 मिनट में 21-13 से अपने नाम किया.

एक और मेडल जीत सकते हैं प्रमोद

भुवनेश्वर का 33 साल का यह खिलाड़ी अभी मिश्रित युगल एसएल3-एसयू5 क्लास में कांस्य पदक की दौड़ में बना हुआ है. भगत और उनकी जोड़ीदार पलक कोहली रविवार को कांस्य पदक के प्लेऑफ में जापान के दाईसुके फुजीहारा और अकिको सुगिनो की जोड़ी से भिड़ेंगे.

एसएल3-एसयू5 वर्ग में भगत और पलक की जोड़ी को सेमीफाइनल में इंडोनेशिया की हैरी सुसांतो एवं लीएनी रात्रि आकतिला से 3 – 21, 15 – 21 से हार का सामना करा पड़ा.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it