Top
Begin typing your search...

तेलंगाना दौरे पर बोले अमित शाह : तेलंगाना में धर्म के आधार पर रिजर्वेशन दिया गया है, इसको तुरंत बंद करना चाहिए

अमित शाह ने कहा कि इस आज़ादी के लिए निर्मल के भोले-भाले आदिवासियों ने, पहले अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ और फिर निज़ाम के ख़िलाफ़, बहुत बड़ा संघर्ष किया।

तेलंगाना दौरे पर बोले अमित शाह : तेलंगाना में धर्म के आधार पर रिजर्वेशन दिया गया है, इसको तुरंत बंद करना चाहिए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पीआईबी, नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्मदिवस पर आज तेलंगाना के निर्मल ज़िले में एक रक्तदान शिविर का शुभारंभ किया। अमित शाह ने तेलंगाना मुक्ति दिवस के अवसर पर एक जनसभा को भी संबोधित किया। शाह ने कहा कि आज ही के दिन तेलंगाना, बीदर और मराठवाड़ा का पूरा क्षेत्र सरदार पटेल के पराक्रम के कारण आज़ादी के 13 महीने बाद स्वतंत्र हुआ था, इसीलिए आज का दिन तेलंगाना के लिए कई मायनों में स्वतंत्रता दिवस भी माना जाता है।

अमित शाह ने कहा कि आज दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्मदिन भी है और आज पूरे देश के 130 करोड़ लोग नरेन्द्र मोदी के दीर्घायु होने की प्रार्थना करते हैं। अमित शाह ने देशवासियों को विश्वकर्मा दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज विश्वकर्मा दिवस भी है और विश्व के सभी श्रमिक और कारीगर विश्वकर्मा को मानते हैं और भगवान विश्वकर्मा की जयंती के दिन ही उनकी आराधना करते हैं।

अमित शाह ने कहा कि आज ही के दिन तेलंगाना निज़ाम के चंगुल से स्वतंत्र हुआ था और आज ही के दिन सरदार पटेल का पुलिस एक्शन और पोलो मिशन समाप्त हुआ था और पूरे देश को आज़ादी मिलने के 13 महीने बाद तेलंगाना को आज़ादी मिली थी।

उन्होंने कहा कि 2024 में तेलंगाना में हमारी सरकार बनेगी और 17 सितंबर को अधिकृत कार्यक्रम करके हैदराबाद विमोचन दिवस मनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम न तो किसी से डरते हैं और न ही तुष्टिकरण की राजनीति करते हैं। शाह ने कहा कि सरदार पटेल के पराक्रम और स्वामी रामतीर्थ, पंडित नरेन्द्र और नरसिम्हा राव जैसे अनेक देशभक्तों के कारण आज ही के दिन हमें सच्चे अर्थों में आज़ादी मिली थी। अमित शाह ने कहा कि इस आज़ादी के लिए निर्मल के भोले-भाले आदिवासियों ने, पहले अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ और फिर निज़ाम के ख़िलाफ़, बहुत बड़ा संघर्ष किया। केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री ने कहा कि तेलंगाना के लिए संघर्ष में 370 से ज्यादा युवाओं के जीवन का अंत पुलिस फायरिंग में हुआ था और 1400 से ज्यादा लोगों ने आत्महत्या की है। हमने ऐसे तेलंगाना के लिए आंदोलन किया था, बलिदान दिया था, जो तेलंगाना के गौरव को पुनर्स्थापित करे।

अमित शाह ने राज्य के मुख्यमंत्री से पूछा कि आपने टीआरएस के आंदोलन के समय वादा किया था कि 17 सितंबर को तेलंगाना विमोचन दिवस मनाएंगे, उस वादे का क्या हुआ जबकि कर्नाटक और महाराष्ट्र मुक्ति दिवस मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक बार हमारी सरकार बनने के बाद हम अधिकृत रूप से 17 सितंबर को तेलंगाना मुक्ति दिवस मनाएंगे।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it