Begin typing your search...

हैदराबाद में अमित शाह की सुरक्षा में चूक, TRS नेता ने गृहमंत्री के काफिले के आगे लगाई कार, बोले- टेंशन था

टीआरएस नेता का कहना है कि वो जरा टेंशन में थे। उक्त कार काफिले के आगे आकर रुक गई थी।

हैदराबाद में अमित शाह की सुरक्षा में चूक, TRS नेता ने गृहमंत्री के काफिले के आगे लगाई कार, बोले- टेंशन था
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की सुरक्षा में चूक हुई है। मंगलवार को हैदराबाद में उनके काफिले के आगे TRS नेता ने अपनी कार लगा दी। हालांकि, गृह मंत्री के सुरक्षाकर्मियों ने इसे तुरंत हटवा दिया। TRS नेता की पहचान गोसुला श्रीनिवास के रूप में हुई है।

हालांकि, अब टीआरएस नेता का कहना है कि वो जरा टेंशन में थे। उक्त कार काफिले के आगे आकर रुक गई थी। दरअसल उक्त घटना पर कार रोकने वाले टीआरएस नेता गोसुला श्रीनिवास ने कहा कि, "मेरी कार अचानक यूं ही रुक गई। मैं तनाव में था। लेकिन मैं बंदोबस्त पुलिस अधिकारी से अब बात करूंगा। उन्होंने मेरी कार में तोड़फोड़ की। मैं जरुर उनसे मिलने जाऊंगा, यह अनावश्यक का तनाव है।"

गौरतलब है कि, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 'हैदराबाद मुक्ति दिवस' के 75 साल पूरे होने के अवसर पर वर्षभर चलने वाले जश्न का उद्घाटन करने हैदराबाद में है। शाह बीते शुक्रवार रात हैदराबाद पहुंचे। दरअसल केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने इस महीने की शुरुआत में तेलंगाना, कर्नाटक और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर उन्हें हैदराबाद परेड मैदान में आयोजित होने वाले उद्घाटन समारोह में आमंत्रित किया था।

13 दिन में सुरक्षा चूक का दूसरा मामला

13 दिन के भीतर अमित शाह की सुरक्षा में चूक का यह दूसरा मामला है। इससे पहले 4-5 सितंबर को महाराष्ट्र दौरे पर भी शाह की सुरक्षा में चूक हुई थी। शाह के मुंबई दौरे पर एक संदिग्ध उनके इर्द-गिर्द कई घंटों तक घूमता रहा था। जब अधिकारियों को शक हुआ तो उन्होंने इसकी जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने उसे 2-3 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया।

ब्रीफकेस बैलिस्टिक शील्ड कवर के साथ Z+ सिक्योरिटी

2019 में शाह के गृह मंत्री बनने के बाद उनकी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई थी। शाह को Z+ सिक्योरिटी के साथ-साथ ब्रीफकेस बैलिस्टिक शील्ड का भी कवर दिया गया था। ये एक पोर्टेबल बुलेट प्रूफ शील्ड या पोर्टेबल फोल्ड आउट बैलिस्टिक शील्ड होती है, जिसे हमले के दौरान खोला जा सकता है। Z+ सिक्योरिटी के तहत शाह के साथ 24 से 30 कमांडो हर वक्त होते हैं।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it