Begin typing your search...

डेड बॉडी को स्ट्रेचर में लादकर कलक्ट्रेट के लिए निकल पड़े परिजन, किसान नेत्री की पुलिस से हुई झड़प, जानें- पूरा मामला

डेड बॉडी को स्ट्रेचर में लादकर कलक्ट्रेट के लिए निकल पड़े परिजन, किसान नेत्री की पुलिस से हुई झड़प, जानें- पूरा मामला
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

यूपी के फतेहपुर जिले से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। ये मामला जिला अस्पताल का है। यहां एक महिला की मौत हो जाने से परिजनों ने हंगामा किया। महिला के शव को स्ट्रेचर में लादकर हंगामा करते हुए परिजन पैदल ही सदर अस्पताल से कलक्ट्रेट के लिए निकल पड़े।

जैसे ही मामले की सूचना पुलिस को लगी तो हाथ-पैर फूल गए। कोतवाली प्रभारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और परिजनों को पत्थरकटा चौराहे के पास रोक लिया। परिजनों को किसी तरह समझा-बुझाकर शव को ऐंबुलेंस से शवगृह पहुंचाया। पुलिस अपनी गाड़ी से मृतक महिला के पति को भी ले गई।

विजयीपुर विकास खंड के ग्राम अफजलपुर मजरे गढ़ा निवासी महिला ग्वालिन को बीते 20 दिसंबर की सुबह पति रज्जो ने बुखार होने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। बुधवार सुबह हालत बिगड़ने पर महिला की जिला अस्पताल में ही मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों ने हंगामा किया। मृतका के देवर लाल बाबू ने डॉक्टरों पर इलाज़ में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। लाल बाबू ने बताया कि जिला अस्पताल में किसी तरह का इलाज नहीं किया जा रहा था और न ही भोजन दिया गया। बार-बार डॉक्टरों के पास इलाज़ के लिए चक्कर लगाते रहे, लेकिन वह टाल-मटोल करते रहे।

परिजनों के साथ मौजूद समाजसेवी प्रीति सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल में घोर लापरवाही जारी है। डीएम से भी डॉक्टरों के लापरवाही की शिकायत की थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आज इस ग़रीब महिला की डॉक्टरों की लापरवाही के चलते मौत हो गई है। हम लोग शव लेकर न्याय की आस से डीएम के पास जा रहे थे, लेकिन बीच रास्ते में ही पुलिस ने रोक लिया। जबरन शव को उठाकर ले गए हैं। परिजनों को भी पुलिस ज़बरन अपने साथ गाड़ी में ले गई है। उल्टा मुकदमा लिखे जाने की धमकी भी पुलिस द्वारा दी जा रही है।

जिला अस्पताल में महिला का इलाज़ कर रहे डॉक्टर आरएम गुप्ता ने बताया कि महिला करीब डेढ़ महीने से खांसी, ज़ुकाम, बुखार से पीड़ित थी। परिजन पहले झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज़ करवा रहे थे। सोमवार को जिला अस्पताल लेकर आए थे। महिला का इलाज चालू कर दिया गया था। जांच कराई गई थी। दोनों फेफड़ों में खराबी थी। बलगम की जांच रिपोर्ट आना बाकी थी। इसके पहले ही बुधवार सुबह महिला की मौत हो गई।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it