Top
Begin typing your search...

दो बच्चों की मां प्रेमी संग मिलकर पति को मार डाला, 52 दिन के बाद सच आया सामने, तो सब लोग रह गये दंग

बसंती ने पति के शव को चादर से इस तरह से ढक दिया कि देखने वालों को लगे कि वह सो रहा है। इसीलिए बच्चों को भी लगा कि उनके पिता सो रहे हैं। अगले दिन

दो बच्चों की मां प्रेमी संग मिलकर पति को मार डाला, 52 दिन के बाद सच आया सामने, तो सब लोग रह गये दंग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मध्य प्रदेश के ग्वालियर से एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है जहा पर पत्नि ने प्रेमी के साथ मिलकर पति को मौत के घाट उतार दिया, इसके बाद वो पूरी रात उसके साथ सोई रही। अगले दिन भी जाहिर नहीं होने दिया कि पति की मौत हो चुकी है।

अगली रात प्रेमी और उसके दोस्त ने मिलकर पति की लाश को ठिकाने लगा दिया। अज्ञात शव के जांच के सिलसिले में जब पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो मामले की परत-दर-परत खुलने लगी। 52 दिन के बाद जब सच सामने आया तो हर कोई सुनकर दंग रह गया। आरोपी महिला के पास से 10 सिम कार्ड मिले हैं। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक पूरा घटनाक्रम सितंबर महीने का है। यहां 6 सितंबर को चिनोर की पुलिस को पुरानी नहर में एक बॉडी मिलने की सूचना मिली। इसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि युवक की गला दबाकर हत्या की गई है। यह जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी। लगभग 20 दिन की जांच के बाद बॉडी की शिनाख्त पोषण सिंह रावत देवरी कला गांव के रूप में हुई। पुलिस को यह भी पता चला कि पोषण सिंह की गुमशुदगी की रिपोर्ट उसकी पत्नी बसंती देवी ने दर्ज कराई है।

इतनी सूचना के बाद पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी। पुलिस जांच के लिए जब घर पहुंची तो देखा कि पत्नी सभी से हंसकर बात कर रही है। पुलिस को शक हुआ कि पति की मौत का किसी पत्नी को गम नहीं है। तेरहवीं के बाद बसंती को पूछताछ के लिए थाने बुलाया। बसंती के पास दो मोबाइल थे। पुलिस ने उसे चेक किया तो उसमें चार सिम थे और मोबाइल के कवर में छह सिम और मिले। पुलिस ने कॉल डिटेल निकाली तो एक नंबर पर कई बार बात हुई थी। यह नंबर मनीष रावत का निकला। पुलिस ने उसे रविवार को हिरासत में लिया। कड़ाई से पूछताछकी तो उसने हत्या की पूरी कहानी बताई। इसके बाद पुलिस ने सोमवार को बसंती और मनीष के दोस्त रवींद्र को भी गिरफ्तार कर लिया।

परीक्षित रावत (30) और बसंती (29) की शादी 11 साल पहले हुई थी। दोनों को 7 साल की बेटी और 5 साल का बेटा है। परीक्षित पेशे से मजदूर और नशे का आदी था। नशे में धुत होकर वह बसंती के साथ मारपीट करता था। इससे बसंती तंग आ चुकी थी। इसी बीच, करीब एक साल पहले उसकी पहचान गांव के ही ITI के छात्र मनीष रावत (20) से हुई। दोनों में प्यार हो गया।

इसी बीच घरेलू कलह से तंग बसंती की निगाहें मनीष रावत से चार हो गईं। घर के हालात से बेजार बसंती को मनीष की सहानुभूति मरहम सरीखी लगी और दोनों की प्रेम कहानी आगे बढ़ने लगी। इसके बाद मनीष और बसंती मिलकर पोषण को अपने रास्ते से हटाने की तरकीबें सोचने लगे। योजना के मुताबिक चार सितंबर को मनीष बसंती के घर जा पहुंचा। बसंती ने दोनों बच्चों को कहीं और भेज दिया और मनीष के साथ मिलकर पति की हत्या कर दी। इसके बाद मनीष वहां से भाग निकला और शव को ठिकाने लगाने की योजना बनाने लगा।

इधर बसंती ने पति के शव को चादर से इस तरह से ढक दिया कि देखने वालों को लगे कि वह सो रहा है। इसीलिए बच्चों को भी लगा कि उनके पिता सो रहे हैं। अगले दिन भी बसंती ने यह ड्रामा चालू रखा और बात फैलाई कि पोषण आराम कर रहा है। उधर अगली रात मनीष अपने एक अन्य दोस्त को लेकर बसंती के घर पहुंचा। इसके बाद दोनों ने मनीष को बाइक पर इस तरह बिठाया, जिसे देखकर लगे कि तीन लोग बाइक पर सवार होकर कहीं जा रहे हैं। दोनों ने शव को ले जाकर नहर में फेंक दिया।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it