Begin typing your search...

बड़ी खुशखबरी: कल लोगों के बैंक अकाउंट में आएंगे 11-11 सौ रुपये, जानिए किस किस की जागेगी किस्मत

यूपी सरकार की बड़ी खुश खबरी

बड़ी खुशखबरी: कल लोगों के बैंक अकाउंट में आएंगे 11-11 सौ रुपये, जानिए किस किस की जागेगी किस्मत
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को प्रदेश के करीब पौने दो करोड़ लोगों के खाते में 11-11 सौ रुपये भेजने का शुभारंभ करेंगे। यह रुपये ऐसे लोगों को मिलेंगे जिनके बच्चे यूपी सरकार के परिषदीय स्कूलों में पढ़ते हैं। लखनऊ में आयोजित समारोह में सीएम योगी ऑनलाइन रुपये ट्रांसफर करेंगे।

डीबीटी के माध्यम से परिषदीय स्कूलों के कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों को स्कूल यूनिफॉर्म के लिए 1100 रुपये दिए जाएंगे। इनमें दो यूनिफॉर्म के लिए 300 रुपये प्रति यूनिफॉर्म 600 रुपये, स्वेटर के लिए 200 रुपये, स्कूल बैग के लिए 175 और जूते के लिए 125 रुपये दिए जाएंगे। बच्चों के अभिभावकों के बैंक एकाउंट की फीडिंग का काम लगभग पूरा हो चुका है। शनिवार को उद्घाटन के बाद खातों में धनराशि ट्रांसफर शुरू हो जाएगा।

बेसिक शिक्षा विभाग ने निशुल्क यूनिफार्म, जूते-मोजे, स्वेटर व स्कूल बैग की धनराशि अभिभावकों के खाते में भेजने के लिए प्रेरणा डीबीटी ऐप सिंतबर में लांच किया था। सभी अभिभावकों का आधार कार्ड के साथ डाटा इसमें शामिल किया गया है। प्रदेश में प्राइमरी व जूनियर स्कूल के 1 करोड़ 80 लाख विद्यार्थियों को धनराशि दी जानी है।

महानिदेशक स्कूल शिक्षा अनामिका सिंह ने पिछले दिनों एप जारी होने के बाद आदेश जारी करते हुए कहा था कि सभी अभिभावकों से सहमति पत्र लेते समय उन्हें सूचित किया जाए कि यदि उनके बैंक खाते निष्क्रिय हैं तो उन्हें यथाशीघ्र सक्रिय करा लिया जाए और उसकी आधार सीडिंग अनिवार्य होगी। सभी अभिभावक अपने खाते आधार नंबर से जुड़वा कर सक्रिय करवा लें।

प्रधानाध्यापकों को सारे विद्यार्थियों व अभिभावकों के ब्यौरे वैरिफाई करने का जिम्मा भी दिया गया था। इसके लिए चित्र समेत यूजर मैनुअल भी जारी किया गया था। इसके बाद खण्ड शिक्षा अधिकारियों को डाटा का परीक्षण का काम दिया गया। डाटा को प्रेरणा पेार्टल से पीएफएमएस प्रारूप पर डाउनलोड कर सत्यापन का काम हुआ।


Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it