Top
Begin typing your search...

बिकरु कांड: खुशी दुबे की ज़मानत याचिका पर यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

बिकरु कांड: खुशी दुबे की ज़मानत याचिका पर यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: यूपी के चर्चित बिकरु कांड में जेल में बंद नाबालिग खुशी दुबे की ज़मानत पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई तो सुप्रीम कोर्ट ने खुशी दुबे की ज़मानत याचिका पर यूपी सरकार को नोटिस जारी किया। विवेक तन्खा ने कहा, खुशी की कुछ दिन पहले हुई थी शादी, उसका इनसब से कुछ लेना-देना नहीं है, उसके पिता पेंटर हैं।

आपको बात दे की कई सामाजिक संस्थाए एवं राजनीतिक पार्टियाँ खुशी दुबे की रिहाई की माँग कर रहे थे। इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने खुशी दुबे की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था, अब खुशी दुबे ने सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी।

अमर दुबे की शादी बीते 29 जून 2020 को खुशी दुबे से हुई थी। शादी के महज तीन दिनों बाद 2 जुलाई 2020 की रात विकास दुबे के घर पर पुलिस टीम दबिश देने के लिए पहुंची थी। इसी दौरान विकास दुबे ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। बिकरू कांड को अंजाम देने के बाद अमर दुबे फरार हो गया था। बीते 8 जुलाई को हमीरपुर के मौदाहा में एसटीएफ ने अमर दुबे को मुठभेड़ में मार गिराया था।

पुलिस ने खुशी को बिकरू कांड में आरोपी बनाया था। जबकि शादी के महज़ 9 दिन बाद खुशी दुबे को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने खुशी दुबे पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा था। बाद में यह तथ्य प्रकाश में आया की खुशी दुबे शादी के समय नाबालिग थी.


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it