Begin typing your search...

बीरभूम हिंसा: फॉरेंसिक जांच में हुआ बड़ा खुलासा, जिंदा जलाने से पहले...

बीरभूम हिंसा: फॉरेंसिक जांच में हुआ बड़ा खुलासा, जिंदा जलाने से पहले...
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हुई हिंसा पर अब सियासत तेज हो गई है। भाजपा, कांग्रेस समेत विपक्ष के कई नेताओं ने टीएमसी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इन सब के बीच ममता बनर्जी बीरभूम पहुंचकर हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाकात की और आरोपियों को चेतावनी भी दी। ममता ने कहा कि रामपुरहाट हत्याकांड के संदिग्धों की तलाश करनी होगी। सभी आत्मसमर्पण करें नहीं तो पुलिस गिरफ्तार करेगी। इसके अलावा अधीर रंजन चौधरी सहित कांग्रेस प्रतिनिधियों को बीरभूम जिले के शांतिनिकेतन में रोका गया। इसके बाद सभी नेता धरना पर बैठ गए।

बीरभूम हिंसा में एक बेहद ही सनसनीखेज खुलासा हुआ है। फोरेंसिक विशेषज्ञों की रिपोर्ट में कहा गया है कि बंगाल के बीरभूम जिले के बोगतुई गांव में जिंदा जलाए गए तीन महिलाओं और दो बच्चों समेत आठ लोगों को नरसंहार से पहले बुरी तरह पीटा गया था। उनकी पोस्टमार्टम जांच में यह खुलासा हुआ है।

एक अधिकारी ने रामपुरहाट अस्पताल से समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि फोरेंसिक विशेषज्ञों के शुरुआती निष्कर्षों के अनुसार, पीड़ितों को पहले बुरी तरह पीटा गया और फिर जिंदा जला दिया गया। फोरेंसिक विशेषज्ञों ने मंगलवार तड़के अज्ञात लोगों द्वारा कथित तौर पर आग लगाकर जला दिए गए लोगों के शवों का परीक्षण किया था।

एक अधिकारी ने रामपुरहाट अस्पताल से समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि फोरेंसिक विशेषज्ञों के शुरुआती निष्कर्षों के अनुसार, पीड़ितों को पहले बुरी तरह पीटा गया और फिर जिंदा जला दिया गया। फोरेंसिक विशेषज्ञों ने मंगलवार तड़के अज्ञात लोगों द्वारा कथित तौर पर आग लगाकर जला दिए गए लोगों के शवों का परीक्षण किया था।

पुलिस ने इस सिलसिले में अब तक कम से कम 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। राज्य सरकार ने कथित रूप से लापरवाही बरतने के आरोप में कई प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।

क्या है मामला

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में टीएमसी नेता की हत्या के बाद सोमवार देर रात हिंसा भड़क गई। यहां भीड़ ने 10-12 घरों के दरवाजे को बंद कर आग लगा दी। एक ही घर से 7 लोगों के शव निकाले गए। भड़की हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हो गई।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it