Begin typing your search...

महराजगंज में भाजपा नेता की हत्‍या का खुलासा

महराजगंज में भाजपा नेता की हत्‍या का खुलासा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

महराजगंज जिले के शास्त्री नगर के रहने वाले अधिवक्ता एवं भाजपा नेता गौरव जायसवाल की हत्या का पर्दाफाश बुधवार दोपहर में कोतवाली परिसर में हुआ। पुलिस ने हत्यारोपी को गिरफ्तार कर चालान कर दिया। वारदात में प्रयुक्त पिस्टल एवं दो कारतूस भी बरामद हुआ है। इस हाई प्रोफाइल केस की गुत्थी सुलझाने में पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

इस मामले में पकड़े गए हत्यारोपित राम बेलास ने बताया कि वारदात वाली रात को वह मदद के लिए भाजपा नेता गौरव को बुलाया। फिर उसे चिउरहा शराब भट्ठी के सामने ले गया। वहां कुछ कहासुनी शुरू हो गई और गौरव अपमानित करने लगा। इसी बात पर वह आक्रोशित होकर अवैध पिस्टल निकाल कर उसे गोली मार दी। फिर बाइक छोड़ पैदल ही भाग गया। खुलासे के बाद कोतवाली पुलिस ने हत्यारोपित राम बेलास यादव को जेल भेज दिया।

कोतवाली में एसपी प्रदीप गुप्ता ने बुधवार को गौरव हत्याकांड का खुलासा किया। बताया कि सोमवार की रात लगभग दस बजे शहर के चिउरहा अंग्रेजी शराब भट्ठी के सामने एक बिरियानी की दुकान में भाजपा नेता एडवोकेट गौरव जायसवाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना से सनसनी मच गई थी। कोतवाली पुलिस ने गौरव के पिता कैलाश जायसवाल की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया। रात में ही शव का पोस्टमार्टम कराया गया, लेकिन कार्रवाई की मांग को लेकर मंगलवार दोपहर तक परिजन शव रोके रहे। सिविल कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अवनीश नारायण त्रिपाठी समेत बार के पदाधिकारी व सैकड़ों अधिवक्ता गौरव के घर पहुंचे थे क्योंकि गौरव जायसवाल भी पेशे से अधिवक्ता थे। डीएम व एसपी मौके पर पहुंचे। कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद मंगलवार दोपहर बाद गौरव के शव का अंतिम संस्कार किया गया।

बुधवार को गबड़ुआ नहर पुलिया के पास से गौरव हत्याकांड के आरोपित राम बेलास यादव (28) निवासी गौनरिया राजा थाना चौक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से अवैध पिस्टल भी बरामद हो गया है।

जिले के हाई प्रोफाइल गौरव हत्याकांड के लिए एसपी प्रदीप गुप्ता ने कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रवि कुमार रॉय, एसओजी प्रभारी राम आशीष सिंह यादव, चौक थाना के प्रभारी निरीक्षक श्याम सुन्दर तिवारी, नगर चौकी इंचार्ज रविन्द्र सिंह व एसआई प्रवीण सिंह के नेतृत्व में टीम गठित किया था। क्योंकि दो दशक के अंदर नगर क्षेत्र में गोली मार कर हत्या की यह पहली घटना थी।

पुलिस टीम ने चुनौती को स्वीकार किया और 40 घंटे में हत्याकांड का पर्दाफाश कर आरोपित को जेल भेज दिया। पुलिस की पूछताछ में हत्यारोपित रामबेलास यादव ने बताया कि 21 मार्च की रात में नौ बजे वह अपनी मां की दवा लेने के लिए गौनरिया राजा से बाइक लेकर महराजगंज आया। उस समय उसके पास अवैध पिस्टल भी था। शहर में बाइक में तेल खत्म हो गई। उस समय तक शहर के सभी पेट्रोल पम्प बंद हो गए थे। कहीं से भी ईंधन नहीं मिलने से मायूस राम बेलास ने गौरव जायसवाल को उसके घर के सामने पेट्रोल पम्प के पास से फोन किया। कहीं से बाइक में पेट्रोल भरवाने में मदद मांगी। इस पर गौरव ने सौ रुपये का पेट्रोल राम बेलास की बाइक भी भरवा दिया था।

शराब भट्ठी के सामने बिरियानी की दुकान में हुई थी हत्या

बाइक में तेल भरवाने के बाद गौरव राम बेलास यादव के साथ चिउरहा शराब भट्ठी के सामने पहुंचा। रास्ते में बेलभरिया गांव का रहने वाला एक युवक भी मिल गया। राम बेलास ने उसे भी गौरव के साथ बाइक पर बैठा लिया। राम बेलास ने गौरव को पांच सौ रुपया दिया। इससे वह अंग्रेजी शराब का हाफ व एक बीयर खरीद लाया। शराब भट्ठी के सामने बिरियानी की दुकान में तीनों बैठ गए। वहां बातचीत होने लगी। बेलभरिया का युवक बगल में बैठा था। गौरव व राम बेलास आमने-सामने बैठे थे। राम बेलास के मुताबिक बातचीत के दौरान गौरव से विवाद हो गया। गौरव उसे अपमानित करने लगा। राम बेलास ने बताया कि इसके पहले भी तीन-चार बार गौरव उसे अपमानित कर चुका था। इस पर राम बेलास उठ गया। खड़ा होकर सीधे पिस्टल निकाल गौरव जायसवाल को गोली मार दी। इसके बाद वह बाइक छोड़ पैदल ही भाग गया।

नगर पालिका अध्यक्ष के भांजे की हत्या से शहर में सनसनी मच गई थी। भाजपा जिलाध्यक्ष परदेशी रविदास के अलावा सदर व पनियरा के विधायक के अलावा हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। स्थिति को संभालने के लिए एसपी ने फरेंदा व निचलौल सीओ समेत कई थानों की पुलिस, पीएसी तैनात कर दिया। पेट्रोल पम्प के सीसीटीवी फुटेज में गौरव के साथ राम बेलास यादव दिखा। शराब भट्ठी के पास राम बेलास की बाइक भी लावारिश हालत में मिली। इसी के बाद पुलिस राम बेलास को अपनी जांच के रडार पर ले ली। बुधवार को उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। एसपी ने खुलासा के बाद पुलिस टीम को 25 हजार रुपये ईनाम देने का घोषणा की। साथ ही साथ आश्वासन दिया कि वह डीआईजी से भी खुलासे वाली टीम को पुरस्कार दिलाने के लिए प्रयास करेंगे। राम बेलास यादव को गिरफ्तार करने वाली टीम में कोतवाल रवि राय, एसओजी प्रभारी राम आशीष सिंह व चौक थाना के प्रभारी निरीक्षक श्याम सुन्दर तिवारी के अलावा नगर चौकी इंचार्ज रविन्द्र सिंह, एसआई प्रवीण सिंह, कांस्टेबिल राजीव यादव, हेड कांस्टेबिल वेद प्रकाश यादव, राम भरोस यादव, विपेन्द्र मल्ल, धनंजय सिंह, विद्यासागर, संजय कुमार सिंह, राजेश यादव, कांस्टेबिल शैलेन्द्र त्रिपाठी, सौरभ यादव शामिल थे।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it