Top
Begin typing your search...

बीजेपी के मंत्री का ऐलान, चिकन-मटन से ज्यादा बीफ खाएं!

यह न सोचें कि इस पर कोई कानून लाया जाएगा

बीजेपी के मंत्री का ऐलान, चिकन-मटन से ज्यादा बीफ खाएं!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेघालय में भाजपा कैबिनेट के नेता सनबोर शुलई ने राज्य के लोगों को कहा है कि वे किसी कानून से न डरें और जमकर बीफ खाएं। उन्होंने यह भी कहा कि डेमोक्रेटिक देश में हर कोई अपनी मर्जी के मुताबिक कुछ भी खा सकता है। सनबोर शुलई को पिछले हफ्ते ही राज्य के पशुपालन और पशु चिकित्सा विभाग का मंत्री बनाया गया है।

शुलई ने शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा- 'मैं राज्य के लोगों को चिकन, मटन और मछली से ज्यादा बीफ खाने को कहना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि लोग यह सोचना छोड़ दें कि भाजपा इसे लेकर कानून लाएगी। कई इलाकों में अल्पसंख्यक आबादी में गलत जानकारी फैली हुई है कि भाजपा यहां भी गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने का कानून ले आएगी।'

मंत्री सनबोर शुलई ने कहा कि वह असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा से बात करेंगे कि वहां हाल ही में लागू हुए गौ हत्या प्रतिबंधन कानून के चलते मेघालय आने वाले मवेशियों की संख्या में गिरावट न हो। देश के 20 राज्यों में गौ हत्या प्रतिबंध कानून के अलग-अलग नियम लागू हैं, जिनके तहत गौ हत्या या गायों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा है।

राज्यों के बीच विवादों का निपटारा पुलिस के जरिए हो

मेघालय और असम के बीच भी सीमा विवाद चल रहा है। इसे लेकर उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि राज्य अपनी सीमा और लोगों की रक्षा के लिए पुलिस का सहारा ले। अगर असम के लोग सीमा के पास रहने वाले हमारे लोगों को परेशान करेंगे तो हम उनके साथ चाय पर चर्चा नहीं करते रहेंगे। हमें मौके पर कार्रवाई करनी होगी।

असम-मिजोरम विवाद में मिजोरम पुलिस की तारीफ की

शुलई ने कहा कि हमारे अंदर अपने लोगों की रक्षा करने की भावना होनी चाहिए। इसके लिए हमें अपने सुरक्षा बलों का उपयोग करना होगा। पुलिस को आगे बढ़कर असम पुलिस से बात करनी चाहिए। उन्होंने असम-मिजोरम सीमा विवाद में मिजोरम पुलिस कार्रवाई की तारीफ करते हुए कहा कि जब बॉर्डर पर रहने वाले लोगों की सुरक्षा की बात होती है, तो मेघालय पुलिस हमेशा बैकफुट पर रहती है। यह सीमा विवाद 50 साल से चला आ रहा है, अब इसका जल्द निपटारा होना चाहिए।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it