Begin typing your search...

बीजेपी विधायक ने नीतीश कुमार के खिलाफ खोला मोर्चा, जानें नीतीश कुमार ने सदन में क्या कहा था

बीजेपी विधायक ने नीतीश कुमार के खिलाफ खोला मोर्चा, जानें नीतीश कुमार ने सदन में क्या कहा था
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पटना। मंगलवार को बीजेपी विधायक विनय बिहारी ने सीएम और स्पीकर के बीच हुए विवाद को लेकर नाराजगी जाहिर की है। बीजेपी विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ऐसा नहीं करना चाहिए था।

विधानसभा के बाहर मीडिया से बातचीत करते हुए बीजेपी विधायक ने कहा कि जब भी हम अपने विधानसभा क्षेत्र में जाते हैं तो वहां की जनता हमें यही कहती है कि विधायक सदन में कुछ नहीं बोलते हैं, विधायकों की कोई हैसियत नहीं है। कल सदन में सीएम नीतीश कुमार और स्पीकर के बीच जो हुआ उससे स्पष्ट है कि विधायकों की क्या हैसियत है। उन्होंने कहा कि सदन में जिस तरह से स्पीकर के साथ बातें की गई वह दुर्भाग्यपूर्ण है। आसन को अपमानित करने का अधिकार किसी को नहीं है, लेकिन स्पीकर के साथ सब कुछ होता रहा और कोई भी बीजेपी विधायक कुछ नहीं बोला। बीजेपी विधायकों को सदन में आवाज उठानी चाहिए थी।

इस दौरान उन्होंने के होली मिलन समारोह का जिक्र करते हुए कहा कि - 'पद पंछी क्षेत्र पिंजड़ा हो गया है, नीतीश जी के राज में विधायक.... हो गया है'। यही स्थिति विधायकों की हो गई है। उन्होंने अपने क्षेत्र की एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि झोपडी में रहने वाले व्यक्ति का बिजली बिल 50 हजार से ज्यादा आता है। जब हम अधिकारी से बात करते हैं तो कोई नहीं सुनता कि कैसे इतना ज्यादा बिल आ गया। इसलिए हमने यह गाना बनाया है कि बिहार में विधायकों की स्थिति कैसी है।

बातदें कि लखीसराय मामले में विधानसभा में सोमवार को नीतीश कुमार ने इस पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि सदन के अंदर संविधान का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। इस तरह से सदन नहीं चलेगा। इस पर स्पीकर ने आरोप लगाया कि लखीसराय घटना में जांच के नाम पर पुलिस सिर्फ खानापूर्ति कर रही है।

क्राइम की रिपोर्ट कोर्ट में दी जाती है, सदन में नहीं

नीतीश कुमार ने कहा कि सिस्टम संविधान से चलता है। एक ही मामले को रोज-रोज उठाने का कोई मतलब नहीं है। विशेषाधिकार समिति की जो भी रिपोर्ट होगी, हम उस पर विचार करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि, सिस्टम संविधान से चलता है। किसी भी क्राइम की रिपोर्ट कोर्ट में दी जाती है, सदन में नहीं। ऐसे में जिसका जो अधिकार है, उसे करने दिया जाए। इस मामले को अकारण आगे बढ़ाने की जरूर नहीं है।

क्या है लखीसराय मामला

सरस्वती पूजा के दौरान कई जगह पर आर्केस्टा का आयोजन किया था। इसके साथ ही कोरोना गाइडलाइंस का भी उल्लंघन हुआ। इसके कई वीडियो भी वायरल हुए थे, जिसके बाद पुलिस ने इस मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था। क्षेत्रीय विधायक होने के नाते स्पीकर विजय सिन्हा से मामले की शिकायत की गई। इसके बाद उन्होंने पुलिस को फटकार भी लगाई थी।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it