Top
Begin typing your search...

CM ने नालंदा, नवादा एवं गया जिले में विभिन्न स्थलों पर गंगा उद्वह योजना के अंतर्गत चल रहे कार्यों का लिया जायजा

गंगा उद्वह योजना सीएम नीतीश कुमार का ड्रीम प्रोजेक्ट माना जाता है, जिसके तहत गंगा नदी के पानी को लिफ्ट कर राजगीर, नालंदा, नवादा और गया जिला में लाना है।

CM ने नालंदा, नवादा एवं गया जिले में विभिन्न स्थलों पर गंगा उद्वह योजना के अंतर्गत चल रहे कार्यों का लिया जायजा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कुमार कृष्णन

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंगलवार को गया में चल रहे विभिन्न विकास योजनाओं का निरीक्षण किया। अपने ड्रीम प्रोजेक्ट गंगा उद्वह योजना के तहत चल रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण सीएम नीतीश कुमार ने तेतर और मानपुर में किया। इसके बाद मुख्यमंत्री गया के ऐतिहासिक सीताकुंड पहुंचे और यहां पर फल्गु नदी में निर्माणाधीन रबर डैम का जायजा लिया। साथ ही प्रस्तावित लक्ष्मण झूला के निर्माण योजना का भी जायजा लिया।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फल्गु नदी में बहने वाले मनसरवा नाला के प्रति काफी गंभीरता दिखलाई और इसके लिए बनाए जा रहे डीपीआर में बदलाव करने का भी निर्देश दिया। सीएम नीतीश कुमार गंगा उद्वह योजना के तहत सबसे पहले तेतर और मानपुर के अबगिला में बन रहे वाटर रिजर्ब डैम के कार्यों का जायजा लिया।

गंगा उद्वह योजना सीएम नीतीश कुमार का ड्रीम प्रोजेक्ट माना जाता है, जिसके तहत गंगा नदी के पानी को लिफ्ट कर राजगीर, नालंदा, नवादा और गया जिला में लाना है। जिले के अंतर्गत जेठीयन के समीप तेतर गांव में विशाल वाटर रिजर्व डैम बनाया जा रहा है। गया शहर को निर्वाह पेयजल उपलब्ध कराने के लिए गंगाजल संचय के लिए मानपुर के अबगिला में बड़ा वाटर रिजर्व डैम बनाया जा रहा है। यहां स्टोर किये गए गंगाजल को संशोधन करने के बाद शहरवासियों के घरों तक पहुंचाया जाना है।


ऐतिहासिक विष्णुपद मंदिर के समीप फल्गु नदी में 270 करोड़ की लागत से रब्बर डैम का निर्माण कार्य जारी है। सीएम नीतीश कुमार ने इस योजना का भी निरीक्षण किया।

उल्लेखनीय है कि इस डैम के निर्माण हो जाने के बाद विष्णुपद मंदिर के समीप फल्गु नदी में सालों भर पानी का जमाव रहेगा। जिससे यहां पर प्रतिवर्ष आने वाले लाखों पिंडदानियों को काफी सहूलियत मिलेगी।

इसी स्थान पर 70 करोड़ की लागत से लक्ष्मण झूला का निर्माण भी होना है। जो फल्गु नदी के एक तरफ देवघाट तो दूसरी तरफ सीता कुंड को जोड़ेगा। इसका निर्माण होने के बाद न सिर्फ यहां आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों को सहूलियत होगी बल्कि यह एक दर्शनीय स्थल के रूप में भी विकसित होगा।


पवित्र फल्गु नदी को सालों भर गंदा करने वाली मनसरवा नाला के लिए भी डीपीआर बनाया जा रहा है। मंगलवार को सीताकुंड पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसको लेकर काफी गंभीरता दिखलाई। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि मानसरवा नाला का गंदा पानी आगे निकाल कर उसे स्वच्छ बनाने की योजना तैयार की जाए। इससे पहले सीएम नीतीश ने नवादा जिले के मोतनाजे में भी गंगा जल उदवह योजना के कार्य प्रगति का निरीक्षण किया और उपस्थित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ नालंदा के सांसद कौशलेन्द्र कुमार सिंह, गया के सांसद विजय कुमार मांझी, एमएलसी संजीव श्याम सिंह, एमएलसी मनोरमा देवी, पूर्व एमएलसी अनुज कुमार सिंह, जिला जदयू अध्यक्ष द्वारिका प्रसाद, जदयू के वरिष्ठ नेता डा.अरविंद कुमार सिंह, पूर्व मंत्री विनोद कुमार यादव, पूर्व मंत्री अभिराम शर्मा, पूर्व विधायक महेश सिंह यादव, अजय पासवान सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, अपर मुख्य सचिव पथ निर्माण सह स्वास्थ्य प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर,जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, बुडको के प्रबंध निदेशक रमण कुमार, मगध रेंज के पुलिस महानिरीक्षक अमित लोढ़ा,नालंदा,नवादा एवं गया के जिलापदाधिकारी गण, वरीय पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक के साथ साथ अन्य पदाधिकारी एवं अभियंता गण उपस्थित थे।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it