Top
Begin typing your search...

सिंघु बॉर्डर पर हुई किसान की मौत, फांसी के फंदे से लटका मिला शव, इन एंगलों पर जांच कर रही पुलिस

शव के पास से मिला ड्राइविंग लाइसेंस

सिंघु बॉर्डर पर हुई किसान की मौत, फांसी के फंदे से लटका मिला शव,   इन एंगलों पर जांच कर रही पुलिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरियाणा में सिंघु बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के बीच एक और किसान की मौत हो गई। किसान का शव बॉर्डर पर ही नीम के पेड़ से लटका मिला है। मृतक किसान भारतीय किसान यूनियन एवं संयुक्त किसान मोर्चा के प्रमुख नेता जगजीत सिंह दल्लेवाल के संगठन का सदस्य था। वह अपने गांव की ट्रॉली में अकेला ही रह रहा था। गुरप्रीत सिंह पुत्र गुरमेल सिंह (45) निवासी गांव रुड़की, जिला फतेहगढ़ साहिब, पंजाब यहां किसान आंदोलन में शामिल था।

फिलहाल यह पता नहीं चला है कि किसान ने हत्या की है या आत्महत्या। कुंडली थाने की पुलिस दोनों एंगल से जांच कर रही है। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस का कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की असली वजह का पता लगेगा। पुलिस उसके आसपास अन्य ट्रालियों पर रहने वाले किसानों से भी जानकारी जुटा रही है। पुलिस ने परिजनों को इसकी जानकारी दे दी है।

कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन को एक साल पूरा होने वाला है। ऐसे में किसानों ने 29 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र पर ट्रैक्टर मार्च निकालने का फैसला लिया है। किसान एकता मोर्चा के तहत किसान संगठनों की बैठक हुई। बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा हुई। इस बैठक में किसान नेता राकेश टिकैत, दर्शनपाल सिंह और गुरनाम सिंह सहित कई अन्य शामिल हुए।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it