Begin typing your search...

लखीमपुर हिंसा की आग, लखनऊ में फूंकी गई पुलिस की जीप, प्रियंका अखिलेश समेत विपक्ष के कई नेता गिरफ्तार

लखीमपुर हिंसा की आग, लखनऊ में फूंकी गई पुलिस की जीप, प्रियंका अखिलेश समेत विपक्ष के कई नेता गिरफ्तार
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखीमपुर हिंसा में किसानों की मौत के बाद यह लड़ाई अब सड़कों पर आ गई। कृषि कानूनों और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की टिप्पणी का विरोध कर रहे किसानों और मंत्री के बेटे के बीच रविवार को हिंसक टकराव में आठ लोगों की मौत के बाद उत्तर प्रदेश में बवाल मचा हुआ है। सियासी उबाल के बीच कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी लखीमपुर जाने के लिए निकलीं लेकिन उन्हें सीतापुर के हरगांव में पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

लखनऊ में धरने पर बैठे अखिलेश यादव को हिरासत में ले लिया गया है। समाजवादी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इसके पहले उनके लखनऊ स्थित आवास के बाहर जमकर बवाल हुआ। लखीमपुर जाने से रोके जाने पर अखिलेश यादव धरने पर बैठ गए। इसी दौरान उनके घर के पास थाने के सामने एक पुलिस जीप में किसी ने आग लगा दी। देखते ही देखते कार धू-धू कर जल उठी। सपाइयों ने कहा कि थाने के सामने खड़ी पुलिस जीप में पुलिस ही आग लगा सकती है।

अखिलेश यादव बोले-पुलिसवालों ने खुद जलाई होगी जीप

थाने के सामने खड़ी जीप में आगजनी के सवाल पर सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने उल्‍टे पुलिसवालों पर ही सवाल उठा दिए। उन्‍होंने कहा कि थाने के सामने आग लगी है तो फिर पुलिसवालों ने ही लगाई होगी। उन्‍होंने आरोप लगाया कि भाजपा की सरकार किसानों पर अंग्रेजों से भी ज्‍यादा जुल्‍म ढा रही है। यह साफ हो गया है कि इस सरकार में कोई भी मारा जा सकता है।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में किसानों समेत आठ की मौत के मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष समेत 14 लोगों के खिलाफ तिकुनिया पुलिस थाने में हत्या साजिश रचने और बलवे के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है।

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी जिले में रविवार को हुई हिंसक झड़प में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। घटना में अभी तक किसी भी पक्ष के लोगों की गिरफ्तारी नहीं हुई है। हालांकि, हालात बिगड़ने की आशंका के मद्देनजर जिले में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। जिले में इंटरनेट सेवाओं को बाधित कर दिया गया है। स्कूलों में आज छुट्टी की घोषणा की गई है, जिले की सीमाओं को सील कर दिया गया है।

किसान नेता राकेश टिकैत ने आज लखीमपुर पहुंचकर हालात का जायजा लिया और सूबे के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार और अन्य आला अधिकारियों के साथ हुई बैठक में टिकैत ने पांच मांगें रखीं, जिसमें मृतक किसानों के परिजनों को एक-एक करोड़ का मुआवजा, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी, घटना की न्यायिक जांच, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा अजय मिश्र टेनी का इस्तीफा और दोषियों को सख्त सजा शामिल है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it