Begin typing your search...

परीक्षा से पहले यमुना में कूदी छात्रा, गोताखोरों की मदद से निकाला शव

परीक्षा से पहले यमुना में कूदी छात्रा, गोताखोरों की मदद से निकाला शव
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मथुरा। आज से इंटरमीडिएट की परीक्षा शुरु हो गई है लेकिन परीक्षा शुरु होने से एक दिन पहले मथुरा की एक छात्रा ने बुधवार शाम को यमुना पुल से नदी में छलांग लगा दी। छात्रा के यमुना में कूदने की सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई।

खोजबीन के लिए रात से ही गोताखोर ओमप्रकाश, रंजीत और पुष्पेंद्र नाव से जाल डालकर प्रयास करते रहे, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। सुबह गोताखोरों ने फिर से यमुना में उतर कर खोजबीन की तो पुल से 100 मीटर दूरी पर उसकी लाश को ढूंढ निकाला, जिसे देख परिजनों के होश उड़ गए। बेटी का शव देख परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।

थाना यमुना पार क्षेत्र के लक्ष्मी नगर इलाके के रहने वाले राजेश की 17 वर्षीय बेटी अंजली बुधवार शाम को घर से बाजार कुछ सामान लेने के लिए निकली। अंजली जब देर रात तक घर नहीं पहुंची तो परिजनों को चिंता हुई। इसके बाद जब परिजनों ने तलाश की, तो उसकी चप्पल नए पुल के पास मिली।

अंजली की चप्पल मिलने के बाद परिजनों ने बेटी के यमुना में छलांग लगाने की आशंका जताते हुए गोताखोरों से मदद मांगी। इसके साथ ही पुलिस को सूचना दे दी। गोताखोरों ने रात को तलाश की, लेकिन अंधेरा ज्यादा होने के कारण सफलता नही मिली। इसके बाद तलाशी अभियान गुरुवार की सुबह एक बार फिर शुरू किया गया। करीब तीन घंटे घण्टे तक तलाश करने के बाद छात्रा का शव पुल से करीब एक किलोमीटर दूर बरामद हुआ।

छात्रा का शव मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। बताया जा रहा है कि इंटरमीडिएट की छात्रा अंजली पढ़ने में होनहार थी। पिता होम गार्ड की नौकरी करते हैं। शव मिलने के बाद पुलिस ने यमुना में से शव निकलवाकर पंचनामा भरा और शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

17 वर्षीय छात्रा ने आत्महत्या क्यों की, इसका कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है। परिजन भी इस मामले पर कुछ भी बताने को तैयार नहीं है। लक्ष्मी नगर पुलिस चौकी प्रभारी कि छात्रा का गुरुवार को इंटरमीडिएट का पहला पेपर था। उससे पहले ही उसने यह कदम क्यों उठाया, इसके पीछे की वजह अभी साफ नहीं हैं।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it