Top
Begin typing your search...

राज्यपाल बोले - 'मैं कुछ नहीं जानता, जो आरोप लगा रहा है उससे पूछिए '

राज्यपाल बोले - मैं कुछ नहीं जानता, जो आरोप लगा रहा है उससे पूछिए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना। भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगने के बाद दिल्ली तलब किये गये बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने पहली बार मीडिया से बात की है। पटना से दिल्ली जाने के क्रम में पत्रकारों के सवालों पर राज्यपाल फागू चौहान ने कहा कि 'मैं कुछ नहीं जानता, जो आरोप लगा रहा है उससे पूछिए।'

राज्यपाल फागू चौहान पर भ्रष्टाचार को संरक्षण और प्रोत्साहन देने का आरोप है। उनपर यह आरोप राज्य के एक कुलपति ने लगाया है।मौलाना मजहरूल हक अरबी फारसी विश्वविद्यालय में कुलपति डॉ. कुद्दुस ने सीएम नीतीश और राज्यपाल को पत्र लिखकर यूनिवर्सिटी में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार होने की शिकायत की है।

राज्यपाल चौहान को किस लिए बुलाया गया है, यह अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन इससे अटकलें तेज हो गई हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि राज्य की नीतीश सरकार व राजभवन के बीच विभिन्न मामलों में बढ़ती दूरी भी चौहान को दिल्ली तलब किए जाने की एक वजह हो सकती है।

माना जा रहा है कि मगध विश्वविद्यालय के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद उन पर कार्रवाई नहीं करना, मौलाना महजरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय के टेंडर में धांधली पर भी प्रभारी कुलपति पर कार्रवाई नहीं करना और उल्टा उन्हें सम्मानित करना भी नीतीश सरकार और राजभवन में दूरी का सबब बना हुआ है।

मगध विवि के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर 30 करोड़ रुपये के गबन के अलावा भी कई आरोप हैं। विजिलेंस ने कुलपति के बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश तक के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस बीच कुलाधिपति फागू चौहान ने मंगलवार को राजेंद्र प्रसाद को 24 नवंबर से 23 दिसंबर तक चिकित्सा अवकाश मंजूर कर दिया।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it