Top
Begin typing your search...

अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का पोता सरकारी सेवा से बर्खास्त, आतंकवाद के समर्थन का आरोप

इसके अलावा डोडा के टीचर फारुख अहमद बट को भी बर्खास्त किया गया है। फारुख का भाई एक्टिव आतंकी है।

अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का पोता सरकारी सेवा से बर्खास्त, आतंकवाद के समर्थन का आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को सरकारी सर्विस से बर्खास्त कर दिया गया है। उस पर जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद का समर्थन करने का आरोप है। अनीस शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में रिसर्च ऑफिसर के तौर पर काम करता था। अधिकारियों ने शनिवार देर शाम इसकी जानकारी दी।

इसके अलावा डोडा के टीचर फारुख अहमद बट को भी बर्खास्त किया गया है। फारुख का भाई एक्टिव आतंकी है।

अनीस के दादा और ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के चेयरमैन रहे सैयद अली शाह गिलानी का एक महीने पहले 91 साल की उम्र में निधन हो गया था। गिलानी के परिवार में दो बेटे और चार बेटियां हैं। गिलानी को हुर्रियत कॉन्फ्रेंस का कट्‌टरपंथी चेहरा माना जाता था। वे कश्मीर की सोपोर विधानसभा सीट से 3 बार विधायक भी रहे थे।

11 कर्मचारियों को बर्खास्त कर चुकी है सरकार

तीन महीने पहले भी जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने एक साथ 11 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया था। इनमें आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के संस्थापक सैयद सलाउद्दीन के दो बेटे भी शामिल थे। सैयद सलाउद्दीन कश्मीर का रहने वाला है, लेकिन इस समय वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में रह रहा है।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it