Begin typing your search...

Kanpur: सूफी खानकाह एसोसिएशन के अध्यक्ष को मिली पाकिस्तान से धमकी, जानें वजह

कानपुर के मोहम्मद कौसर हसन मजीदी को पाकिस्तान से धमकी मिली है. मोहम्मद कौसर कानपुर में चल रही सूफी खानकाह एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.

Kanpur: सूफी खानकाह एसोसिएशन के अध्यक्ष को मिली पाकिस्तान से धमकी, जानें वजह
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kanpur News: कानपुर के मोहम्मद कौसर हसन मजीदी को पाकिस्तान से धमकी मिली है. मोहम्मद कौसर कानपुर में चल रही सूफी खानकाह एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. उन्होंने कानपुर की कमिश्नरेट पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों सहित गृह मंत्रालय को पत्र भेजा है. पत्र में आरोप लगाया कि पाकिस्तानी नंबर से उनके पास मंगलवार रात 7:50 बजे वॉट्सऐप कॉल आई. कहा कि नूपुर शर्मा का समर्थन करना भारी पड़ेगा. सिर तन से जुदा कर देंगे.

मोहम्मद कौसर हसन मजीदी ने आरोप लगाया कि हिंसक घटनाओं के पीछे पाकिस्तान के आतंकियों द्वारा संचालित वॉट्सऐप ग्रुप अहम भूमिका निभा रहे हैं. खास बात यह है कि इन ग्रुप में उत्तर प्रदेश के कई अन्य जिलों के भारतीय लोग भी बड़ी संख्या में जुड़े हैं. इनका माइंडवास करने और हिंसा फैलाने के लिए वॉट्सऐप ग्रुप्स में भारत विरोधी इस्लामिक कट्टरता वाली तकरीरें दी जा रही हैं. कानपुर की पुलिस पर मोहम्मद कौसर ने आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले दो सालों से मुझे और मेरे परिवार को धमकियां मिल रही हैं. मेरे घर पर भी कई बार हमला हुआ है.

इसके बावजूद पुलिस ने कोई भी कार्रवाई नहीं ली. 21 जून को रात करीब 7:50 बजे वॉट्सऐप कॉल आई. कॉल करने वाले ने खुद को पाकिस्तान का बताया. अपने आप को पाकिस्तानी आतंकी मुल्ला जलाली का बेटे बताया. मोहम्मद कौसर ने कहा, "नूपुर शर्मा का समर्थन करने के नाम पर धमकी देने वाले ने मुझे गाली दी. मेरा सिर तन से अलग करने की धमकी दी. मुझे और मेरे पूरे परिवार के खिलाफ फतवा भी निकलवाने की धमकी दी. यह सभी सूचनाएं मैंने कानपुर पुलिस कमिश्नर को दी, लेकिन उन्होंने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की.

गृहमंत्री, पीएमओ और अन्य जांच एजेंसियों को भी पूरे साक्ष्य के साथ शिकायत पत्र भेजा है." मोहम्मद कौसर ने कहा, "इससे पहले भी हम एक्टिव पाकिस्तानी आतंकियों के वॉट्सऐप ग्रुप्स पर खुलासा कर चुके हैं. देश के कई अन्य शहरों के नंबर का पूरा ब्यौरा पुलिस को दिया था. उस वक्त भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी."

Desk Editor
Next Story
Share it