Begin typing your search...

'मोदीजी, आपने पेंसिल-रबर तक महंगी कर दी, मांगने पर मम्मी मारती हैं', कक्षा 1 की छात्रा ने लिखा PM को पत्र

बढ़ती महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है. बढ़ती मंहगाई पर कक्षा 1 में पढ़ने वाली एक छोटी बच्ची ने पीएम मोदी को एक भावुक पत्र लिखा है. सोशल मीडिया पर उसका लेटर खूब वायरल हो रहा है.

मोदीजी, आपने पेंसिल-रबर तक महंगी कर दी, मांगने पर मम्मी मारती हैं, कक्षा 1 की छात्रा ने लिखा PM को पत्र
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

महंगाई इस समय एक बड़ा मुद्दा बन गया है. बढ़ती महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है. दूध-दही पर भी GST लगाने से मोदी सरकार की खूब आलोचना हो रही है. विपक्ष के साथ-साथ अब जनता भी सरकार पर खुलकर हमलावर है. बढ़ती मंहगाई पर कक्षा 1 में पढ़ने वाली एक छोटी बच्ची ने पीएम मोदी को एक भावुक पत्र लिखा है. सोशल मीडिया पर उसका लेटर खूब वायरल हो रहा है.

कन्नौज की रहने वाली है कृति दुबे

पीएम मोदी को पत्र लिखने वाली इस छोटी सी बच्ची का नाम कृति दुबे है. कृति कक्षा एक की छात्रा है और उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले के छिबरामऊ की रहने वाली. 6 साल की कृति ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर महंगाई से होने वाली दिक्कतों को बताया है.

'मोदीजी आपने बहुत महंगाई कर दी है'

कृति ने अपने लेटर में लिखा कि नाम कृति दुबे है. मैं कक्षा एक में पढ़ती हूं. उसने आगे लिखा कि मोदी जी आपने बहुत महंगाई कर दी है. यहां तक पेंसिल रबर तक महंगी कर दी है. और मैगी के दाम भी बढ़ा दिए हैं. अब मेरी मां पेसिंल मांगने पर मारती हैं. मैं क्या करूं? बच्चे मेरी पेंसिल चोरी कर लेते हैं.

बच्ची ने पिता से PM को भिजवाया लेटर

बच्ची ने अपनी समस्या को एक चिट्ठी में लिखा और उस चिट्ठी को प्रधानमंत्री तक भेजा है. बच्ची के पिता ने बताया कि बच्ची के दबाव बनाने उसकी चिट्ठी को डाक के जरिए प्रधानमंत्री मोदी को भेजा है. वहीं इस मामले को लेकर छिबरामऊ के SDM अशोक कुमार ने कहा कि उन्हें इस छोटी बच्ची के पत्र के बारे में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से पता चला. उन्होंने कहा कि मैं किसी भी तरह से बच्ची की मदद करने के लिए तैयार हूं और यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश करूंगा कि उसका पत्र संबंधित अधिकारियों तक पहुंचे.

Desk Editor Special Coverage
Next Story
Share it