Top
Begin typing your search...

लखीमपुर हिंसा: केंद्रीय गृहराज्य मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में कराया गया भर्ती

लखीमपुर हिंसा: केंद्रीय गृहराज्य मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में कराया गया भर्ती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जेल बंद लखीमपुर खीरी हिंसा के मुख्य आरोपी केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आशीष को डेंगू हो गया है। जेल के अस्पताल में इलाज चल रहा था पर तबीयत बिगड़ने पर उसे अस्पताल लाया गया है जहां डेंगू का इलाज चल रहा है।

आपको बता दें कि लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा उर्फ मोनू को पुलिस ने शुक्रवार की शाम 48 घंटे के लिए रिमांड पर लिया था। आशीष मिश्रा जब जेल से बाहर आए और पुलिस उनको अपने साथ क्राइम ब्रांच ले गई तो उनकी तबीयत कुछ ठीक नहीं थी। पुलिस सूत्रों के अनुसार, बाहर आने से पहले जेल में उनके कुछ टेस्ट हुए थे। उनको बुखार की शिकायत थी। बताया जाता है कि शनिवार को उनकी टेस्ट रिपोर्ट आई, जिसमें वह डेंगू पॉजिटिव पाए गए। पुलिस ने दोबारा चेक करने के लिए मोनू का फिर से मेडिकल कराया। जिसमें भी वह डेंगू पॉजिटिव पाए गए।

एडिशनल एसपी अरुण कुमार सिंह ने इसकी पुष्टि की है। बताया है कि मेडिकल रिपोर्ट में उनकी शुगर भी बढ़ी हुई है। मेडिकली फिट न होने के कारण पुलिस ने उनसे पूछताछ करना उचित नहीं समझा और उनको शनिवार की देर शाम जेल अस्पताल लाया गया। लेकिन वहां तबीयत बिगड़ने के बाद उसे जिला अस्तपाल में शिफ्ट किया गया। जहां डॉक्टर की निगरानी में उसका इलाज चल रहा है।

बतादें कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में तीन अक्तूबर 2021 को हुई हिंसा में कुल आठ लोगों की मौत हुई थी, जिसमें चार किसान, दो भाजपा कार्यकर्ता, एक ड्राइवर व एक पत्रकार शामिल है। इस मामले में दोनों पक्षों से दो मुकदमे दर्ज किए गए थे, जिसमें एक पक्ष से केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र आशीष मिश्र मोनू मुख्य आरोपी बनाए गए हैं। जांच कर रही पर्यवेक्षण समिति ने अब तक कुल 13 लोगों की गिरफ्तारियां की हैं, जिनसे पूछताछ के आधार पर अन्य लोगों को भी गिरफ्तार करने का सिलसिला जारी है।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it