Begin typing your search...

भगवाधारी साधु का अनोखा चुनावी प्रचार, इशारे से मांगेंगे वोट, जानिए कौन सीट पर किये है दावा

भगवाधारी साधु का अनोखा चुनावी प्रचार, इशारे से मांगेंगे वोट, जानिए कौन सीट पर किये है दावा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में नामांकन के दौरान प्रत्याशियों के अलग-अलग रूप देखने को मिले। 14 जनवरी से शुरु हुआ नामांकन 21 जनवरी को खत्म हो गया। प्रथम चरण के नामांकन के दौरान कोई प्रत्याशी नोटों की माला पहनकर पहुंचा तो कोई हाथ में चोट लगने के कारण नामांकन करता हुआ दिखाई दिया। नामांकन के दौरान एक ऐसे भी प्रत्याशी मिले जिन्होंने मतदाताओं को रिझाने के लिए बोल कर नहीं बल्कि लिखकर प्रचार करने का निर्णय लिया है।

मौन धारण कर चुनाव में उतरे 77 वर्षीय साधु मौनी फलहारी बापू मथुरा के छाता विधानसभा क्षेत्र स्थित गुहारी गांव में रहते हैं। बाबा जनार्दन के शिष्य मौनी फलहारी बापू यहां गांव के मंदिर में रहकर भगवान शिव की आराधना करते हैं। लंबे अरसे से बृज में रह रहे मौनी फलहारी बापू पिछले साढ़े 11 वर्ष से मौन धारण किये हुए हैं। भगवा धारण कर रहने वाले मौनी फलहारी बापू ने 12 वर्ष तक मौन धारण करने का व्रत ले रखा है। नामांकन दाखिल करने आये इस प्रत्याशी ने अधिकारियों से भी इशारों में ही बात की और अपना नामांकन दाखिल किया।

क्षेत्र का विकास कराने के उद्देश्य से चुनाव मैदान में उतरे मौनी फलहारी बापू ने इशारों में बताया कि उनके पास 55 हजार रुपया था जिसमें से 10 हजार रुपये नामांकन में खर्च कर दिए। बचे 45 हजार रुपयों से एफडीआर बनवा दी है। मौनी फलहारी बापू ने लिखकर बताया कि वह 2019 में राज्यसभा के लिए , 2019 में हेमा मालिनी के सामने लोकसभा के लिए 2017 में छाता विधानसभा से नामांकन किया था लेकिन उनका पर्चा खारिज हो गया था। अब एक बार फिर वह चुनाव मैदान में हैं। मौनी फलहारी बापू के इशारों को समझकर जानकारी देते उनके अधिवक्ता तरिणी कुमार गौतम ने बताया कि इनके मन में जनता की सेवा करने के बारे में आया जिसके बाद इन्होंने राजनीति के जरिये जनता की सेवा करने का फैसला किया।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it