Top
Begin typing your search...

नवम स्वरुप मां सिद्धिदात्री : इसके बिना अधूरी है मां सिद्धिदात्री की पूजा, जानें पूजा विधि, मंत्र और महत्व

माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति “मां सिद्धिदात्री” हैं। नवरात्र पूजन के नौवें दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा का विधान है।

नवम स्वरुप मां सिद्धिदात्री : इसके बिना अधूरी है मां सिद्धिदात्री की पूजा, जानें पूजा विधि, मंत्र और महत्व
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।

सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।

माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति "मां सिद्धिदात्री" हैं। नवरात्र पूजन के नौवें दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा का विधान है। माता के इस स्वरूप की आराधना से ही सभी प्रकार की सिद्धियाँ प्राप्त करके मनुष्य मोक्ष पाने में सफल होता है।

माता सिद्धिदात्री का रूप अत्यंत सौम्य है, इनकी चार भुजाएं हैं दायीं भुजा में चक्र और गदा धारण किया है और बांयी भुजा में शंख और कमल का फूल है। माँ सिद्धिदात्री कमल आसन पर विराजमान हैं। माता की सवारी सिंह है। माता ने यह रूप भक्तों पर अनुकम्पा बरसाने के लिए धारण किया है।

अंतर्मन की शक्ति को जगाने का यह नवमा व अंतिम दिन है। साधना के आठ पड़ावों को पार करके जब साधक सिद्धिदात्री के दरबार तक पहुंच जाता है तो दुनिया की कोई भी वस्तु उसकी पहुंच से बाहर नहीं होती।

करुणामयी मां साधक की हर मुराद को पूरा कर देती हैं। मां का स्वरूप ही कल्याणक और वरदायक है। क्रियाशीलता का वर देकर वे साधक को हर उस संघर्ष के लिए सक्षम बना देती हैं, जो जीवन में आवश्यक है।

भगवान शिव ने मां सिद्धिदात्री की कृपा से ही आठ सिद्धियों को प्राप्त किया था। इन सिद्धियों में अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व शामिल हैं। इन्हीं माता की वजह से भगवान शिव को अर्द्धनारीश्वर नाम मिला, क्योंकि सिद्धिदात्री के कारण ही शिव जी का आधा शरीर देवी का बना।

हिमाचल का नंदा पर्वत इनका प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। मान्यता है कि जिस प्रकार इस देवी की कृपा से भगवान शिव को आठ सिद्धियों की प्राप्ति हुई ठीक उसी तरह इनकी उपासना करने से बुद्धि और विवेक की प्राप्ति होती है।

इस तरह करें मां सिद्धिदात्री की पूजा

मां भगवती को इस दिन हलवा, पूड़ी, सब्जी, खीर, काले चने, फल और नारियल का भोग लगाना चाहिए। साथ ही इस दिन मां के वाहन, योगिनियों, हथियार और अन्य देवी-देवताओं के नाम से हवन-पूजन करना उत्तम माना जाता है। इससे माता की कृपा प्राप्त होती है और भाग्य का भी उदय होता है। इस दिन माता की पूजा करते समय बैंगन या जामुनी रंग के वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है। माता सिद्धिदात्री की शास्त्रीय विधि से पूजा-अर्चना करने के बाद कन्या पूजन करना चाहिए। बिना कन्या पूजन के नवरात्रि का शुभ फल प्राप्त नहीं होता है। कुछ घर में अष्टमी के दिन कन्या पूजन करते हैं तो कुछ घरों में नवमी के दिन कन्या पूजन करने के विधान है।

मां सिद्धिदात्री का ध्यान मंत्र

सिद्धगंधर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि । सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।

वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्। कमलस्थितां चतुर्भुजा सिद्धीदात्री यशस्वनीम्॥

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it