Begin typing your search...

विश्वनाथ धाम का निर्माण चुनाव के लिए नहीं कराया, मुझसे एक गलती हुई, काशी में प्रबुद्ध वर्ग से बोले पीएम मोदी

विश्वनाथ धाम का निर्माण चुनाव के लिए नहीं कराया,

विश्वनाथ धाम का निर्माण चुनाव के लिए नहीं कराया, मुझसे एक गलती हुई, काशी में प्रबुद्ध वर्ग से बोले पीएम मोदी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

यूपी चुनाव के सातवें चरण के मतदान से वाराणसी दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार सुबह काशी के प्रबुद्धजनों संग बैठक की। महमूरगंज स्थित रमना निवास में आयोजित इस बैठक में कला एवं संस्कृति क्षेत्र के अलावा शहर के बड़े डॉक्टर, वकील, प्रोफेसर और विद्वान मौजूद रहे।

प्रबुद्धजनों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कासी और यूपी में हुए विकास कार्यों को गिनाया। स्वच्छता, कानून-व्यवस्था समेत अन्य मुद्दों पर योगी सरकार की तारीफ की। उन्होंने कहा कि विकास के लिए सरकार की निरंतरता जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा कि यूपी को भी स्टेबिलिटी और कंटीन्यूटी चाहिए।

पीएम ने कहा कि पांच-पांच साल में सरकारें बदलती रहीं तो विकास प्रभावित होगा। संतुलित विकास के लिए स्थिर सरकार जरूरी है। डबल इंजन की सरकार से विकास तेजी से होगा।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में ऐसी सरकार की जरूरत है जो सांस्कृतिक विरासत को सहेजते हुए विकास को आगे बढ़ाए। पांच साल में जो विकास कार्य हुए हैं उनको देखते हुए आगे ऐसा विकास जारी रहे इस पर भी विचार करना चाहिए। इस दौरान जिन विकास कार्यों का शिलान्यास हुआ है उनका लोकार्पण भी सही समय से हो इसके लिए लोगों के सहयोग की जरूरत है।

पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात में लंबे समय तक एक सरकार ने काम किया, इसके कारण वहां बेहतर तरीके से विकास कार्य हुआ। पीएम मोदी ने कहा कि अगले पांच साल में यूपी को इकोनॉमिक हब बनाना है लेकिन यह बिना काशीवासियों के सहयोग के संभव नहीं है।

पीएम बोले, मुझसे हुई एक गलती

पीएम मोदी ने कहा कि चुनाव जीतने के बाद जब मैं गंगा आरती में धन्यवाद देने आया था। तब मैनें एक गलती की जो आमतौर पर कोई राजनेता नहीं करता। मैंने कहा था कि मैं काशीवासियों से कुछ मांगने आया हूं। सभी काशीवासी स्वच्छता का कार्य स्वयं करें। काशीवासी स्वच्छता के लिए जो कार्य करते हैं। इसका संदेश विश्व में जाता है। काशी में परिवर्तन जन मन से है। काशी ने जन-मन-गण सिखाया है।

कहा कि 30 साल तक देश में स्थिर सरकार नहीं बनीं। रेलवे में तो 30 साल कोई निर्णय नहीं हुआ। पूर्ण बहुमत वाली सरकार भारत के लिए अनिवार्य है। कन्टिन्यूटी और स्टेबिलिटी चाहिए। जब स्थिर सरकार होती है तभी जवाबदेही भी तय होती है। बिना पूर्ण बहुमत के सरकार में स्थिरता न होने के कारण अकाउन्टीबिलिटी नहीं हो पाती। आजादी के बाद सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री के रूप में गुजरात में कार्य करने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ है।

चुनाव की दृष्टि से नहीं कराया विश्वनाथ धाम निर्माण

काशी विश्वनाथ धाम बहुत पहले हो जाना चाहिए था, यह काशी का हक है, यह कार्य हमने अपने चुनाव की दृष्टि से नहीं कराया है। मैने काशी के लिए कोई अलग से खजाना नहीं दिया है यह तो काशी के जन के सहयोग से हुआ है। मैं स्वयं फीडबैक लेने में विश्वास रखता हूं। मैं कल रात स्टेशन पर लाउंज में गया, सभी व्यवस्थाएं स्वयं देखी। वहां मात्र 5 फीट की जगह में काशी में बने खिलौने एवं हस्तशिल्प के सामान थे। पूछने पर पता चला कि यहां प्रतिदिन 10 हजार रुपये का व्यवसाय होता है। काशी की गरीब जनता की भी रोजी-रोटी रेलवे की छोटी सी जगह में चलती है।

पीएम मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना

पीएम मोदी ने प्रबुद्धजनों संग संवाद में विपक्षी भी निशाना साधा। कोरोना संकट काल का जिक्र कर कहा कि डबल इंजन की सरकार ने जरूरतमंद परिवारों को मुफ्त राशन दिया। हर वर्ग की ख्याल रखा। मुफ्त टीकाकरण किया जा रहा है। अगर यूपी में परिवारवादी आएंगे तो फिर सिर्फ अपने ही बारे में सोचेंगे और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलने के साथ ही माफियाओं को संरक्षण मिलेगा। प्रगति पथ पर लगातार आगे बढ़ रहे उत्तर प्रदेश के लिए यह अच्छा नहीं होगा।

इस दौरान पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा, काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के अध्यक्ष प्रो. नागेंद्र पाण्डेय, बीएचयू के कुलपति प्रो. सुधीर जैन, पद्मश्री पंडित हरिहर कृपालु त्रिपाठी, निर्यातक रमा रमन, पद्मश्री राजेश्वर आचार्य, उद्योगपति अशोक गुप्ता आदि मौजूद रहे।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it