Begin typing your search...

बीरभूम हिंसा पर सियासत हुई तेज, असदुद्दीन ओवैसी क्या बोले जानें

बीरभूम हिंसा पर सियासत हुई तेज, असदुद्दीन ओवैसी क्या बोले जानें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पश्चिम बंगाल में बीरभूम हिंसा पर सियासत तेज हो गई है। घटना पर अब AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का बयान सामने आया है। ओवैसी ने कहा कि बंगाल सरकार हिंसा रोकने में फेल होग गई है। इसके साथ-साथ ओवैसी ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों पर भी निशाना साथा। ओवैसी ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां वोट तो ले लेती लेकिन उनको न शिक्षा और न कलम देती बल्कि उनके हाथों में बम थमा देती है।

ओवैसी ने कहा, 'बीरभूम में जो कुछ भी हुआ वह दिखाता है कि सरकार मुसलमानों को अपने पैदल सैनिकों के रूप में इस्तेमाल कर रही है। एक ही राजनीतिक दल के दो समूह हिंसा कर रहे हैं जहां बच्चों सहित कई लोग मारे गए हैं, राज्य सरकार बंगाल में हिंसा को नियंत्रित करने में विफल रही है।' उन्होंने आगे कहा, 'जो वहां (बीरभूम में) हुआ वह बताता है कि राजनीतिक पार्टियां उस राज्य के मुसलमानों के नाम पर वोट लेती है लेकिन उनको न शिक्षा और न कलम देती बल्कि उनके हाथों में बम थमा देती है। जो भी बीरभूम में हुआ उसकी हम कड़ी निंदा करते हैं।'

क्या है मामला

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में टीएमसी नेता की हत्या के बाद सोमवार देर रात हिंसा भड़क गई। यहां भीड़ ने 10-12 घरों के दरवाजे को बंद कर आग लगा दी। एक ही घर से 7 लोगों के शव निकाले गए। भड़की हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हो गई।

पुलिस ने इस सिलसिले में अब तक कम से कम 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। राज्य सरकार ने कथित रूप से लापरवाही बरतने के आरोप में कई प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it