Top
Begin typing your search...

प्रयागराज गैंगरेप-हत्‍याकांड, आज पीड़ित परिवार से मिलने जाएंगी प्रियंका

प्रयागराज गैंगरेप-हत्‍याकांड, आज पीड़ित परिवार से मिलने जाएंगी प्रियंका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

प्रयागराज में एक दलित परिवार के चार सदस्‍यों की कुल्‍हाड़ी से काटकर निर्मम हत्‍या पर यूपी की सियासत गर्माने लगी है। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी आज पीड़ित परिवार से मिलने प्रयागराज आ रही हैं। उधर, पुलिस ने इस मामले में 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इन पर हत्‍या, रेप और एससी-एसटी एक्‍ट की धाराएं लगाई गई हैं। साथ ही लापरवाही बरतने के आरोप में फाफामऊ के इंस्पेक्टर राम केवट पटेल सहित दो अन्य पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

बताया जा रहा है कि चारों मृतकों का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा। फाफामऊ के मोहनगंज गोहरी गांव में घटना को लेकर मातम पसरा है। मां-बेटी से दुष्कर्म की आशंका पर दोनों की स्लाइड सुरक्षित की गई है। घटना का मूल कारण जमीन का विवाद बताया जा रहा है। दिल दहला देने वाली इस घटना की सूचना मिलने पर आईजी और डीआईजी मौके पर पहुंचे और फाफामऊ इंस्पेक्टर और एक सिपाही को निलंबित कर दिया। गांव में तनाव को देखते हुए फोर्स तैनात कर दी गई है।

गुरुवार सुबह दलित अधेड़ (50), उसकी पत्नी (47), बेटी (17) और बेटे (13) की घर के भीतर खून से सनी लाश बरामद की गई। सभी के सिर पर प्रहार किया गया था। खून से सनी कुल्हाड़ी भी पुलिस को मिली है। एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या की खबर फैलते ही ग्रामीणों की भारी भीड़ जमा हो गई।

क्या है मामला

फाफामऊ के गोहरी गांव में एक ही परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या कर दी गई। मृतकों में फूलचंद(50), उसकी पत्नी मीनू(45), बेटा शिव(10) और 17 वर्षीय बेटी शामिल हैं। सभी के खून से लथपथ शव सुबह घर के भीतर पड़े मिले। धारदार हथियार से हमला कर उन्हें मौत के घाट उतारा गया।

पांच भाइयों में दूसरे नंबर पर था अधेड़

मोहनगंज गोहरी का मारा गया अधेड़ पांच भाइयों में दूसरे नंबर पर था। उसके अन्य चार भाइयों के मकान कुछ दूरी पर है। अधेड़ के घर के बाहर चाट का ठेला लगाने वाला युवक सुबह पहुंचा तो इस सामूहिक हत्याकांड की जानकारी लोगों को हुई। ठेले वाले के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा खुला था। अंदर से दुर्गंध आ रही थी। गांव वालों का कहना है कि बुधवार को दिनभर किसी ने परिवार के लोगों को नहीं देखा था। ऐसे में माना जा रहा है कि मंगलवार की रात ही वारदात हुई। फोरेंसिक टीम, फिंगर प्रिंट टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए। एसटीएफ और क्राइम ब्रांच की टीमों ने 17 लोगों को हिरासत में लिया है।

क्या बोले प्रत्यक्षदर्शी

फाफामऊ के गोहरी गांव में एक ही परिवार के चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाले हत्यारों के सिर पर खून सवार था। मौके और शवों की हालत उनकी दरिंदगी की दास्तां बयां कर रही थी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मौके पर जो हालात थे, उससे इस बात की आशंका है कि हत्यारों ने पहले बरामदे में सो रहे दंपति व बेटे को मारा और फिर दरिंदगी के बाद कमरे में सो रही किशोरी का कत्ल कर दिया।

फाफामऊ में शांतिपुरम से होते हुए रेलवे क्रॉसिंग पार करते ही गोहरी गांव पड़ता है। इसी गांव में सड़क से लगभग सटे हुए मकान में फूलचंद व उसका परिवार रहता था। घर के दाहिनी ओर पशु औषधालय है जबकि बायीं ओर खाली प्लॉट पड़ा है। पीछे की ओर ईंट का भट्ठा है। पशु औषधालय की चहारदिवारी इतनी है कि आराम से इसे फांदकर घर में दाखिल हुआ जा सकता है।

मृतक अधेड़ के भाई की तहरीर पर 11 लोगों के खिलाफ हत्या, दुष्कर्म, पाक्सो एक्ट और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ है। नामजद आरोपितों में आकाश सिंह पुत्र अमित सिंह, आकाश की पत्नी बबली सिंह, रवि सिंह, मनीष सिंह पुत्रगण रामगोपाल, अमित सिंह पुत्र अरुण सिंह, अभय, राजा रंचू पुत्रगण राजकुमार, कुलदीप, कान्हा, अशोक पुत्रगण मान सिंह हैं।

घटना में मारे गए अधेड़ के भाई ने अपनी 17 साल की भतीजी के साथ गैंगरेप की आशंका जताई है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि जमीन के झगड़े को 5 सितंबर 2019 और 21 सितंबर 2021 को मृतक के परिवार और भाइयों के साथ आरोपियों ने मारपीट की थी। उन्‍हें जान से मारने की धमकी भी दी थी। उस घटना की एफआईआर फाफामऊ थाने में दर्ज है। तब फाफामऊ थाने की पुलिस ने कार्रवाई की बजाए परिवार पर मुकदमे में सुलह के लिए दबाव बनाया था। पुलिस आरोपियों की खुलेआम मदद करती थी।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it