Begin typing your search...

तस्वीर आपके सामने है, आप खुद सोचिए क्या ये सही ?

तस्वीर आपके सामने है, आप खुद सोचिए क्या ये सही ?
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

खाकी का रौब देखना है तो कोतवाली संभल में देखें। बुधवार को यहां कार्यालय में बैठकर महिला दरोगा शबनम अपने पैर दबवाती दिखीं। उन्होंने अपने पैर को उस कुर्सी पर रखा था, जिस पर पैर दबाने वाला व्यक्ति बैठा था। इस दौरान उन्होंने एक शिकायतकर्ता से बातचीत की तो सामान्य तरीके से किसी से फोन पर भी बातचीत की।

इस दृश्य की चर्चा गहराने के साथ कहा गया कि जो व्यक्ति महिला दरोगा के पैर दबा रहा है वह उत्तराखंड के हल्द्वानी का रहने वाला है। इस बाबत पूछने पर महिला दरोगा ने कहा कि उनकी गर्दन में दर्द था इसलिए वह एक्यूप्रेशर विधि से उपचार करा रही थीं। जो व्यक्ति आया था वह लोगों के दर्द का उपचार करता है। मैंने भी करा लिया।

दूसरी ओर कोतवाल मामला संज्ञान में नहीं होने की बात कह रहे हैं। बता दें कि इन्हीं महिला दरोगा पर पूर्व में बरेली तैनात रहते समय एक दरोगा की गैर इरादतन हत्या के आरोप का मुकदमा चल चुका है। हालांकि संभल के पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्र का कहना है कि महिला दरोगा को कोई समस्या है। ऐसी जानकारी मिली है लेकिन ऐसे कार्यालय में बैठकर उपचार लेना सही नहीं है। जानकारी करते हैं। ऐसा क्यों किया गया है।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it