Top
Begin typing your search...

सासंद को तालिबान आतंकियों की तुलना स्वतंत्रता सेनानियों से करना पड़ा भारी, देशद्रोह का केस हुआ दर्ज

संभल के एसपी ने बताया, "हमें शिकायत मिली है कि सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने तालिबान की तुलना भारत के स्वतंत्रता सेनानियों से की है. ऐसे बयान देशद्रोह की श्रेणी में आते हैं. इसलिए उनके खिलाफ धारा 124ए (देशद्रोह), 153ए, 295 आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई

सासंद को तालिबान आतंकियों की तुलना स्वतंत्रता सेनानियों से करना पड़ा भारी, देशद्रोह का केस हुआ दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सम्बल: उत्तर प्रदेश के सम्बल जिले से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने हाल ही में अफ़ग़ानिस्तान के हालात पर बोलते हुए तालिबानी आतंकियों की तुलना देश के स्वतंत्रता सेनानियों से कर दी थी.जिसके बाद से उनके इस बयान से विरोधी दल उन पर हमलावर हैं.

सीएम योगी से लेकर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य तक ने शफीकुर्रहमान को आड़े हाथो लिया.उनके इस बयान के बाद से लगातार उन पर करवाई की मांग उठ रही थी.इसी बीच सम्बल पुलिस ने सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.पुलिस ने कई धाराओं में सपा नेता के खिलाफ केस दर्ज किया है.

वही संभल के एसपी ने बताया, "हमें शिकायत मिली है कि सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने तालिबान की तुलना भारत के स्वतंत्रता सेनानियों से की है. ऐसे बयान देशद्रोह की श्रेणी में आते हैं. इसलिए उनके खिलाफ धारा 124ए (देशद्रोह), 153ए, 295 आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई. दो अन्य लोगों ने फेसबुक में एक वीडियो में ऐसी ही बातें कहीं, उन पर भी मामला दर्ज किया गया है."

सीएम योगी ने सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क पर बोलते हुए कहा, "मैं एक पार्टी के सांसद का वक्तव्य सुन रहा था. वह तालिबान का बड़ी बेशर्मी के साथ समर्थन कर रहे थे. यानी उनके बर्बर कृत्यों का समर्थन कर रहे थे." उन्होंने कहा "हम संसदीय लोकतंत्र में बैठे हैं. कहां लेकर जा रहे हैं हम लोग. हम ऐसे कृत्यों का समर्थन कर रहे हैं जो मानवता के लिए कलंक हैं."

वही उपमुख्यमंत्री सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शफीकुर्रहमान बर्क पर हमला बोलते हुए कहा, "समाजवादी पार्टी में कुछ भी हो सकता है. कुछ ऐसे लोग हैं जो जन गण मन नहीं गा सकते. कुछ तालिबान के समर्थक भी हो सकते हैं. कुछ अन्य लोग पुलिस द्वारा आतंकवादियों की गिरफ्तारी पर आरोप लगा सकते हैं. यह तुष्टीकरण है."

आपको बता दे कि कि शफीकुर्रहमान बर्क ने तालिबान पर कब्जे की तुलना भारत में ब्रिटिश राज से कर दी थी.सपा सांसद ने कहा कि हिंदुस्तान में जब अंग्रेजों का शासन था और उन्हें हटाने के लिए हमने संघर्ष किया, ठीक उसी तरह तालिबान ने भी अपने देश को आजाद किया।

उन्होंने तालिबान की तारीफ करते हुए कहा कि, इस संगठन ने रूस, अमेरिका जैसे ताकतवर मुल्कों को अपने देश में ठहरने नहीं दिया. हालांकि अगले दिन बर्क अपने बयान से पलट गए थे विवाद के बाद उन्होंने कहा कि हम अपने देश की सरकार के साथ हैं.



RUDRA PRATAP DUBEY
Next Story
Share it